varun gandhi priyanka vadra rahul gandhi
varun gandhi priyanka vadra rahul gandhi

नई दिल्ली।
पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के पौत्र और केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के पुत्र भाजपा लीडर वरूण गांधी ने बड़ा खुलासा किया है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, उनकी मां सोनिया गांधी और राहुल की बहन प्रियंका वाड्रा के साथ केवल औपचारिक रिश्ते हैं।

पिछले सात साल में पहली बार टीवी पर इंटरव्यू बात करते हुए कई खुलासे किए हैं। एक टीवी चैनल के साथ बातचीत करते हुए वरूण गांधी ने कई बड़ी बातें सार्वजनिक करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी अब तक को सबसे शानदार प्रधानमंत्री करार दिया है।

वरूण गांधी ने कहा कि वह व्यक्तिगत तौर पर हिंदू हैं, और यह उनकी निजी जिंदगी है, जिसको राजनीति का हिस्सा नहीं बनाना चाहिए। पिछले समय बीजेपी छोड़कर कांग्रेस में जाने के सवाल पर दो बार के सांसद वरूण गांधी ने कहा कि जब भी वह भाजपा छोड़ेंगे तो राजनीति से भी सन्यास ले लेंगे।

राहुल गांधी द्वारा पीएम नरेंद्र मोदी को ‘चौकीदार चोर है’, कहने के सवाल पर वरूण गांधी ने कहा कि यह बिलकुल बैकार की बातें हैं और इस तरह की बातें किसी भी व्यक्ति को नहीं बोलनी चाहिए। देश के पीएम के लिए तो कतई नहीं।

पीएम मोदी के साथ उनके संबंधों पर बोलते हुए वरूण गांधी ने कहा​ कि प्रधानमंत्री उनके पिता तुल्य हैं और हर दुख—सुख में उनके साथ खड़े रहते हैं। अमित शाह और अन्य नेताओं के सवाल पर वरूण ने कहा कि सब उनसे बड़े हैं तो उनके साथ मित्रवत संबंध तो हो नहीं सकते, तो उनके साथ बड़ों की तरह से व्यवहार करते हैं।

बीच—बीच में किताबें लिखकर और अखबारों में अपने लेखों के माध्यम से मोदी सरकार पर सवाल उठाने के सवाल पर वरूण गांधी ने कहा​ कि वह एक जनप्रतिनिधि हैं और जनता की आवाज उनको उठानी थी, इसमें पार्टी या सरकार की बुराई और आलोचना का तो सवाल ही नहीं उठता।

टिकट मिलने और सीट बदलने के सवाल पर वरूण गांधी ने कहा कि वह अपनी पार्टी के अनुशासित सिपाही हैं और इसीलिए पार्टी जो भी आदेश देगी, वह करेंगे। वरूण गांधी ने कहा कि भाजपा जो कहेगी, वह करेंगे।

अमेठी और रायबरेली से उनकी मां मेनका गांधी द्वारा प्रचार करने की बात कहने और इन्हीं सीटों उनकी राय के सवाल पर वरूण गांधी ने कहा​ कि भाजपा ही उनका परिवार है। और उनका परिवार जो भी कहेगा, वह करेंगे। इस बात को वरूण गांधी ने तीन बार दोहराया।

राहुल गांधी परिवार के साथ रिश्तों पर वरूण गांधी ने चार बार कहा कि उनके और उनकी मां मेनका गांधी के केवल औपचारिक रिश्ते हैं। उन्होंने कहा कि सुख दुख में जितने जानकार लोगों के संबंध होते हैं, उतने ही उनके बीच संबंध हैं।

खुद की मां मेनका गांधी के बारे में बाते करते हुए वरूण गांधी ने कहा कि वह ही मेरी मां है, बाप है, गुरू है और परिवार है। जो महिला 23 साल की उम्र में विधवा हो गई हों, और केवल उनके लिए जी रही हों। उसकी इज्जत के लिए उनको गर्दन भी कटवानी पड़े तो पीछे नहीं हटेंगे।