jaipur

राजस्थान की राजधानी जयपुर सीकर झुंझुनू चूरू टू सवाई माधोपुर के बड़े इलाके में गुरुवार से शुरू हुई बरसात का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है।

यहां क्लिक करके देखिए वीडियो

इन जिलों में शनिवार को भी सुबह बरसात का दौर शुरू हुआ जो दोपहर बाद तक जारी रहा। इस दौरान शनिवार को दोपहर बाद कुछ समय के लिए बरसात हुई।

रात को भी कुछ इलाकों में हल्की बरसात होने की सूचना है, लेकिन निचले इलाकों में भरा हुआ पानी खाली नहीं हो पाया है।

राजधानी जयपुर में भी कई जगह पर कच्ची बस्तियों में पानी भरा हुआ है, जिसके चलते जनजीवन अस्त-व्यस्त है।

जयपुर समय 4 जिलों में तीसरे दिन भी भारी बरसात 1

निचले इलाकों में बने कच्चे मकान ढहने की सूचना है। राजस्थान में अब तक आठ जनों की बाढ़ जनित हादसों में डूबकर मरने की जानकारी सामने आई।

राजधानी जयपुर के ऐतिहासिक रामगढ़ बांध में शुक्रवार को शुरू हुई। पानी की आवक शनिवार को भी जारी रही। लोग यहां पर सूचना मिलने के बाद पिकनिक मनाने के लिए आने लगे हैं।

मौसम विभाग के मुताबिक जयपुर के चाकसू में सबसे ज्यादा 292 मिलीमीटर बरसात हुई है। इसके बाद बस्सी में 198 मिलीमीटर और जयपुर शहर में 152 मिमी बरसात शनिवार तक दर्ज की गई थी।

जयपुर समय 4 जिलों में तीसरे दिन भी भारी बरसात 2

चाकसू से करीब 30 किलोमीटर दूर कोटखावदा में 187 मिलीमीटर बरसात शनिवार सुबह तक दर्ज की गई।

चाकस, बस्सी, कोटखावदा, निवाई के अलावा जमवारामगढ़, किशनगंज में भी कई गांवों में पानी भर गया।

चाकसू तहसील के पांच बांध तक टूट चुके हैं। गांव से तीसरे दिन भी पानी खाली नहीं हो रहा है, इसके चलते कई ग्रामीण अपने घरों में दुबके हुए हैं।

इधर राजधानी जयपुर में बहने वाली द्रव्यवती नदी को सौंदर्यीकरण के लिए तैयार किया गया था, लेकिन अब यही नदी भारी बरसात के कारण जयपुर वासियों के लिए आफत का कारण बनती जा रही है।

इस पर बने निचले पुल पानी में डूब गए हैं, जिसके चलते लोगों को आवाजाही में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।