इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की आजीवन सदस्यता अब ऑनलाइन

जयपुर।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के महासचिव डॉ वी के जैन , प्रदेश संग़ठन महामंत्री व मीडिया प्रभारी डॉ संजीव गुप्ता, प्रदेश सचिव डॉ सर्वेश शरण जोशी ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के सदस्यता अभियान को मोबाइल, लेपटॉप या कंप्यूटर से केवल एक क्लिक से ही सदस्यता फार्म को सबमिट करने के प्रोग्राम को लांच किया।

संगठन महामंत्री और मीडिया प्रभारी डॉ संजीव गुप्ता ने बताया कि पूरे राजस्थान में करीब पचास हज़ार डाक्टर हैं, जिन्हें इस सदस्यता अभियान के तहत 50 प्रतिशत सदस्यता शुल्क पर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन का सदस्य बनाया जाना प्रस्तावित है।

डॉ गुप्ता ने बताया कि राजस्थान का कोई भी डाक्टर अपने मोबाइल या कम्प्यूटर से एक क्लिक पर इन्डियन मेडिकल एसोसिएशन का सदस्य बन सकता है। इस सदस्यता अभियान के तहत सदस्यता शुल्क में 50 प्रतिशत की छूट 23 मई तक है

डॉ संजीव गुप्ता बने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के प्रदेश संगठन महामंत्री और मीडिया प्रभारी

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के सचिव डॉ वी के जैन ने राजस्थान के प्रदेश संग़ठन महामंत्री एवम मीडिया प्रभारी के पद पर डॉ संजीव गुप्ता को मनोनीत किया है।

डॉ जैन ने बताया कि डॉ संजीव गुप्ता पूरे राजस्थान में इन्डियन मेडिकल एसोसिएशन के संग़ठन महामंत्री के साथ साथ मीडिया के प्रभारी भी होंगे।

डॉ संजीव गुप्ता पूर्व में दो बार जयपुर मेडिकल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष पद पर रह चुके हैं। प्राईवेट हॉस्पिटल और नर्सिंग होम्स सोसाइटी के संयोजक , हिण्डौन क्षेत्रीय नागरिक समिति, जयपुर के अध्यक्ष तथा करौली जिला समाज जयपुर के उपाध्यक्ष भी हैं।

डॉ संजीव गुप्ता ने बताया कि उनका मुख्य उद्देश्य इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के संग़ठन को मजबूत करने, चिकित्सकों के हित में कार्य करना, चिकित्सकों द्वारा जनता को बेहतर इलाज हेतु प्रेरित करने के साथ साथ दिन प्रतिदिन मरीज व डाक्टरो के बीच बढ़ती हुई अविश्वास की खाई को पाटने का प्रयास करना है।

यह भी पढ़ें :  BSNL दे रहा है सबसे Best ऑफर: केवल 4.65 रुपए में चाहो जितनी बात और 4GB से ज्यादा नेट डेटा

डॉ गुप्ता ने कहा कि वह सरकार, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन अन्य चिकित्सक संग़ठनों व जनता के बीच मे संवाद कायम कर राज्य में चिकित्सा व्यवस्था में सुधार व गुणवत्ता हेतु सार्थक प्रयास करेंगे।

उन्होंने बताया कि चिकित्सा सेवाओं के प्रति जागरूकता पैदा करना इत्यादि कार्यों में भी संगठन का योगदान रहेगा।