इंस्टैंनट मैसेजिंग ऍप imo बना रही है कोविड-19 महामारी के दौर में लाखों लोगों को जागरूक

अनेक यूज़र्स और सरकारी निकायों ने भ्रामक बातें दूर करने और कोविड-19 के मद्देनज़र प्रभावित नागरिकों तकर सहायता पहुंचाने के लिए imo ऍप को अपनाया

नई दिल्ली।

मुफ्त वीडियो कॉलिंग एवं इंस्टैंंट मैसेजिंग ऍप imo ने कोविड-19 के महामारी के बारे में फैली भ्रामक सूचनाओं को दूर करने तथा इस पूरे विषय में लोगों को अधिक जागरूक बनाने के मकसद से कई कदम उठाए हैं।

imo ने वैश्विक स्तंर पर इन प्रयासों को अंजाम दिया है। ऍप अपने विस्तृहत डैशबोर्ड के जरिए सत्या पित सूचनाओं को शेयर करती है और भारत के अलावा सऊदी अरब तथा बांग्ला देश जैसे देशों में करीब 20 मिलियन लोगों को यह ऍप लगातार जागरूक बना रही है।

कोविड-19 महामारी शुरू होते ही, ऍप ने अपनी सीएसआर पहल के तहत्, अपने यूज़र्स के लिए इस संकटकाल को कुछ आसान बनाने की शुरुआत की थी।

ऍप ने महामारी से प्रभावित देशों के रियल टाइम डेटा को एकत्र कर इसे डैशबोर्ड के जरिए प्रचारित किया।

इसके अलावा, ऍप ने इस रोग से बचाव और इस पर नियंत्रण, इस संबंध में सरकारी घोषणाओं, सत्यापपित रिपोर्टों तथा अन्ये उपयोगी कन्टेंणट को भी प्रचारित करना शुरू किया।

ऍप की लगातार यही कोशिश रही कि महामारी के विषय में आम जन के बीच फैल रही भ्रामक बातों तथा सोशल मीडिया प्लेहटफार्मों के जरिए प्रचारित हो रही अपुष्टत सूचनाओं को दूर किया जाए।

महामारी से संबंधित कन्टेंमट का औसत दैनिक एक्सचपोज़र 10 मिलियन से भी अधिक पाया गया।

ऍप द्वारा बड़े पैमाने पर ग्लो्बल स्तपर पर सही जानकारी पहुंचाने और गलतफहमियों को दूर करने की गतिविधियों के मद्देनज़र कुछ सरकारी एजेंसियों ने भी इसके द्वारा किए जा रहे प्रयासों पर ध्यािन दिया।

यह भी पढ़ें :  राजस्थान की सरकार होटल में मस्त है और कोरोना रिकॉर्ड तोड़ने में व्यस्त है

बांग्लारदेश सरकार की इंफॉरमेशन कम्यु निकेशन टैक्नो लॉजी (आईसीटी) डिवीज़न ने 29 अप्रैल को imo पर एक हैल्थइकेयर कॉल सेंटर शुरू किया, ताकि सऊदी अरब में फंसे बांग्लादेशी नागरिकों तक चिकित्साए सहायता पहुंचायी जा सके।

इस प्रोग्राम में imo के पांच नंबरों को भी जोड़ा गया जिसके जरिए बांग्लाादेशी प्रवासी निर्धारित डॉक्टसरों के साथ सलाह-मश्विरा कर सकते थे।

ऍप की ग्लोबल स्तर पर लोकप्रियता के बारे में imo प्रवक्ता‍ ने कहा, ”अधिक लोगों द्वारा imo के इस्ते माल की एक बड़ी वजह है अस्थिर या कमजोर नेटवर्क वाले क्षेत्रों में भी स्थिर कॉल्स की सुविधा उपलब्धम कराने की इसकी क्षमता।

मार्केट में मौजूद अन्य् आईएम एप्ली केशनों के मुकाबले, यूज़र्स imo की मदद से वीडियो कॉल्स तथा मैसेजिंग करने पर 20% से अधिक मोबाइल डेटा की बचत कर सकते हैं। हमें खुशी है कि हमारी टैक आधारित इनोवेशंस से आम जनता को मदद मिल रही है।”

उपर्युक्तस इनीशिएटिव्सल के अलावा, ऍप ने अपने फंक्शसन में कई अन्यि प्रमुख बदलाव भी किए हैं ताकि पर्सनल और प्रोफेशनल प्रयोग के मद्देनज़र पूरी प्रक्रिया को आसान बनाया जा सके।

कोविड-19 के हालातों को देखते हुए, ऍप ने अपने मल्टीस पर्सन ऑडियो तथा वीडियो कॉल प्रणालियों को भी अपग्रेड किया है। ऍप पर एक बार में अधिकतम 20 लोग ऑडियो कॉल पर तथा 9 लोग वीडियो कॉल पर कनेक्टर हो सकते हैं।

इस प्रकार, imo वर्क-फ्रॉम-होम परिस्थितियों में ऑफिस मीटिंग्सह आयोजित करने के लिए खासतौर से उपयोगी साबित होगी।

साथ ही, यह उन लोगों के लिए भी फायदेमंद है जो इस कठिन समय में अपने प्रियजनों के संपर्क में आना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें :  मोदी ने मन से कहीं 8 मन की बात, देखिए आपको क्या करना है?

imo के बारे में
imo ग्लोाबल इंस्टैं ट कम्यु निकेशन प्लेमटफार्म है जो ऑडियो एवं वीडियो कम्यु्निकेशन सर्विस, इंस्टैंमट मैसेजिंग तथा पब्लिक सर्विस फंक्शुन मुहैया कराती है।

इस ऍप की मदद से यूज़र्स अपने परिवारों तथ मित्रों के संपर्क में बने रह सकते हैं, और कहीं भी तथा कभी भी उनके साथ अपने जीवन के खास अवसरों को शेयर कर सकते हैं।

इसी तरह, यूज़र्स को वैश्विक स्तार पर खबरें, जानकारियों और ऍप के जरिए उपलब्धी करायी जा रही अन्यव कमर्शियल सेवाएं भी उपलब्धे होंगी।

ग्लोरबल स्तजर पर अग्रणी सोशल प्ले टफार्म के तौर पर, imo ने 200 मिलियन से अधिक यूज़र्स को अपने परिजनों और मित्रों के साथ सार्थक संपर्क बनाए रखने में मदद दी है।