इजराइल के बाद इटली ने किया कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने का दावा, भारत की 30 कंपनियां कभी भी कर सकती है ऐलान

नेशनल दुनिया, नई दिल्ली।

कोविड-19 की वैश्विक महामारी के लिए इजरायल ने वैक्सीन बनाने का दावा किया है।

इजरायल के चिकित्सा मंत्री ने कहा है कि उन्होंने कोरोनावायरस की वैक्सीन तैयार कर ली है और इसके पेटेंट का कार्य फाइनल स्टेज में चल रहा है। पेटेंट होने के बाद वैक्सीन को बाजार में उतार दिया जाएगा।

भारत की ब्रिटिश कंपनियां बना रही हैं वैक्सीन

इजराइल और इटली के अलावा भारत की भी 30 कंपनियां कोरोनावायरस की वैक्सीन बनाने की अंतिम प्रक्रिया में हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ कंपनियों के सीईओ की बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि उनकी वैक्सीन का परीक्षण अंतिम दौर में चल रहा है और कभी भी इसके सफल होने की घोषणा की जा सकती है।

अमेरिका, जर्मनी और फ्रांस भी इसी कतार में

इजराइल और इटली के द्वारा वैक्सीन बनाने का दावा करने और भारत की तमाम कंपनियों द्वारा जल्द से जल्द व्यक्ति को बाजार में उतारे जाने की बात सामने आने के बाद अमेरिका, जर्मनी और फ्रांस के भी कई कंपनियों ने वैक्सीन के सफलता के नजदीक जाने का दावा किया है।

चीन भी वैक्सीन बनाने का दावा कर रहा है

कोविड-19 कब आएगा चीन के बुहान शहर से शुरू हुआ था। इसके बाद पूरी दुनिया में फैल गया। अमेरिका समेत दुनिया के कई देश इस वायरस को चीन का जैविक हथियार बता रहे हैं। इसके साथ ही चीन ने दावा किया है कि कोरोनावायरस की वैक्सीन उन्होंने बना ली है।

चीन पर कोई भरोसा नहीं करता

अपनी सांप्रदायिक सोच और साम्राज्यवादी नीति के तहत चीन आज दुनियाभर से अलग-थलग पड़ गया है। पाकिस्तान जैसे स्वार्थी मित्रों के अलावा चीन के साथ दुनिया का कोई भी देश नहीं खड़ा है ऐसी स्थिति में चीन का दावा धरा ही रह जाता है, क्योंकि चीन के ऊपर कोई भरोसा नहीं करता है।

यह भी पढ़ें :  मोदी की चीन को दो टूक: "विस्तारवाद का युग खत्म हुआ, यह विकासवाद का युग है", पढ़िए मोदी की पूरी बातें

जो कंपनी पेटेंट करवाएगी वही कमाएगी

उल्लेखनीय है कि किसी भी दवा या वैक्सीन का आविष्कार करने वाली कंपनी अथवा देश उसका पेटेंट करवा लेते हैं। पेटेंट के बाद दूसरे देशों को और दूसरी कंपनियों को वह वैक्सीन या दवा बनाने का अधिकार तभी मिलता है, जब रॉयल्टी ही तय की जाती है