29 C
Jaipur
बुधवार, जून 3, 2020

कोरोना की जंग में नायक बनकर उभरे हैं ये मुख्यमंत्री! सबसे तेज कदम उठाकर बने जनता के हीरो

- Advertisement -
- Advertisement -

रामगोपाल जाट
वैश्विक महामारी कोविड—19 की रोकथाम के मामले में चीन ने सबसे तेज कदम उठाए और केवल एक शहर तक सीमित कर दिया। अमेरिका कदम उठाने में नाकाम रहा, इटली की जनता ने नजाकत को समझा नहीं, ब्रिटेन के वासियों को शायद अपने श्रेष्ठ होने का गर्व था, ईरान रुढ़िवादियों की चपेट में रह गया और पाकिस्तान अपने पुराने कर्मों को ढोह रहा है।

भारत सरकार ने 24 मार्च की रात को लॉक डाउन कर समय पर कठोर कदम उठाया। तमाम प्रयास करने के कारण ऐसा लगा मानो देश ने कोरोना की जंग को सबसे तेज और सबसे पहले जीत ली है। किंतु अचानक 30 मार्च को दिल्ली के निजामुद्दीन की मरकज भवन में तबलीगी जमात के छुपे हुए कोई 2300 से अधिक लोगों ने फिर से देश को मौत के मुहाने पर खड़ कर दिया।

बताया गया है कि यहां से कार्यक्रम में शिरकत कर लॉक डाउन से पहले ही करीब 9000 लोग देश के 22 राज्यों में जा चुके थे। जिनको ढूंढने का काम किया राज्य और केंद्र सरकार ने। जहां देश करीब 1500 विदेश से लौटकर आए मरीजों को रोककर बीमारी को नियंत्रित करने का दावा कर रहा था, अब वहीं देश मरकज से निकले लोगों को ढूंढ़ रहा है।

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के कार्यों को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन, अमेरिका, इटली, ब्रिटेन समेत कई देश प्रसंशा कर चुके हैं। सरकार ने सभी मोर्चों पर समय रहते कदम उठाए, लेकिन इसके साथ ही यह भी जानना जरुरी है कि राज्यों की सरकारों ने क्या कदम उठाए और किस तरह से कोरोना वायरस को रोकने के लिए समय रहते कठोर कदम उठाए हैं।

आइए आपको बताते हैं कौन कौन से मुख्यमंत्री हैं, जो इस भयानक त्रासदी के वक्त नायक की तरह उभरे हैं—

1. योगी ​आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश…

yogi-adityanath-uttar-pradesh
yogi-adityanath-uttar-pradesh

भगवाधारी योगी आदित्यनाथ की दिल्ली दंगों के वक्त कठोर छवि के कारण खूब आलोचना हुई, लेकिन उनके उन कठोर कदमों का ही नतीजा था कि दंगों की आग में यूपी नहीं झुलसा। अब, जबकि पूरा देश कोरोना वायरस की चपेट में आया हुआ है और तबलीगी जमात के लोगों के द्वारा खुद आगे नहीं आकर, पुलिस​कर्मियों से मारपीट की, चिकित्साकर्मियों के साथ अभद्रता की, उसके बाद योगी सरकार ने कड़े कदम उठाए। नतीजा यह हुआ की योगी सरकार ने कोरोना को वहीं का वहीं थाम दिया।

सबसे पहले गरीबों के लिए बैंक खातों में सहायता राशि दी। उसके बाद मजदूरों के लिए कई अहम कदम उठाए। मरीजों के लिए अस्पतालों में व्यवस्था की और संदिग्धों को समय रहते क्वारंटीन किया। इसका परिणाम यह हुआ कि मरीजों की संख्या जो काफी हो सकती थी, उसमें रोकथाम लगी।

2. केसीआर राव, मुख्यमंत्री, तेलंगाना

KCR rao
KCR rao

तेलंगाना राज्य के मुख्यमंत्री केसीआर राव ने मीडिया के सामने आकर कहा कि किसी भी अन्य राज्य के गरीब को बाहर जाने से रोका, उनके लिए राज्य में ही पूरी व्यवस्था की और उनको मजदूरी भी दी। एक सप्ताह पहले तक, यानी 30 मार्च को राज्य को कोरोना संक्रमण से मुक्त करने ही वाले थे कि मरकज के लोगों ने वायरस से तेलंंगाना को नहला दिया। अब राव ने कहा है कि लॉक डाउन को 3 जून तक बढ़ाया जाना चाहिए।

3. शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री, मध्य प्रदेश

shivraj_singh_cm_mp
shivraj_singh_cm_mp

लॉक डाउन के बीच शपथ लेने वाले शिवराज सिंह चौहान ने जिस तरह से कार्य संभाला और जनता के लिए काम किया, वो सराहनीय है। यहीं पर सबसे पहले एनएसए के तहत कार्यवाही शुरू की गई। इंदौर में महिला चिकित्सकों को साथ मारपीट करने वालों की गली में भी जरुरी सामान मुहइया करवाकर शिवराज सरकार ने सहिष्णुता का गहरा परिचय दिया है।

4. अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री, राजस्थान

ashok gehlot cm rajasthan
ashok gehlot cm rajasthan

जब 24 मार्च को देशभर में लॉक डाउन किया गया था, उसके पांच दिन पहले, यानी 19 मार्च को ही राजस्थान वह पहला राज्य था, जहां पर लॉक डाउन किया गया। तब त​क राज्य में 26 मरीज अकेले भीलवाड़ा में मिल चुके थे। राजस्थान सरकार ने सरकारी कर्मचारियों की तनख्वाह काटने का काम भी इसी सरकार ने किया। हालांकि, अंत में सरकारी प्रेस रिलीज में से तबलीगी जमात का कॉलम हटाकर अपने अच्छे कार्यों के उपर पानी फेरने का काम भी किया।

5. कैप्टन अमरिंद्र सिंह, मुख्यमंत्री, पंजाब

captain amrindra singh cm panjab
captain amrindra singh cm panjab

पंजाब पहला ऐसा राज्य है, जिसमें सबसे पहले कर्फ्यू लगाया। सबसे तेजी से बढ़ रहे कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या को नियंत्रित किया। कांग्रेस पार्टी के द्वारा मोदी सरकार की आचोलना को दरकिनार कर केंद्र के साथ कदमताल कर राष्ट्रवादी मुख्यमंत्री का परिचय दिया।

6. विजय रुपाणी, मुख्यमंत्री, गुजरात

vijay-rupani cm gujrat
vijay-rupani cm gujrat

विजय रुपाणी ने सबसे पहले मरीजों से बात कर उनका हौसला बढ़ाया और हमेशा डॉक्टर्स के साथ खड़े रहे। गुजरात में कानून व्यवस्था को भी बनाए रखना भी चुनौती था, लेकिन रुपाणी ने पुलिस के साथ उचित सामांजस्य बिठाया और कोरोना के कहर में जाते गुजरात को बचा लिया।

- Advertisement -
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिया संपादक .

Latest news

चक्रवात निसर्ग ने महाराष्ट्र में दी दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश, देखिये क्या हैं हालात?

मुंबई/रायगढ़। चक्रवात निसर्ग ने 72 घंटों के इंतजार के बाद महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के श्रीवर्धन-दिवे आगार में एक प्रचंड दस्तक दी, जिसके साथ ही...
- Advertisement -

राजस्थान में अस्पताल ने 2 कोरोना निगेटिव को बताया पॉजिटिव, हुआ सियासी हंगामा

जयपुर। राजस्थान के पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह के गनमैन और राजस्थान पर्यटन विकास निगम (आरटीडीसी) के कर्मचारियों को कोरोनावायरस से निगेटिव पाया गया, जबकि इसके...

डोनाल्ड ट्रम्प की विवादित पोस्ट पर फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने ऐसे दी सफाई

सैन फ्रांसिस्को। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा की गई विवादित पोस्ट पर कार्रवाई करने के लिए कंपनी के भीतर नाराजगी बढ़ने के साथ ही फेसबुक...

मध्य प्रदेश के भाजपा विधायक ने सोनू सूद से मांगी मदद, कांग्रेस का हमला

भोपाल, 3 जून (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश के रीवा जिले से भाजपा के विधायक और पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ल द्वारा अपने क्षेत्र के मुंबई में फंसे...

Related news

चक्रवात निसर्ग ने महाराष्ट्र में दी दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश, देखिये क्या हैं हालात?

मुंबई/रायगढ़। चक्रवात निसर्ग ने 72 घंटों के इंतजार के बाद महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के श्रीवर्धन-दिवे आगार में एक प्रचंड दस्तक दी, जिसके साथ ही...

राजस्थान में अस्पताल ने 2 कोरोना निगेटिव को बताया पॉजिटिव, हुआ सियासी हंगामा

जयपुर। राजस्थान के पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह के गनमैन और राजस्थान पर्यटन विकास निगम (आरटीडीसी) के कर्मचारियों को कोरोनावायरस से निगेटिव पाया गया, जबकि इसके...

डोनाल्ड ट्रम्प की विवादित पोस्ट पर फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने ऐसे दी सफाई

सैन फ्रांसिस्को। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा की गई विवादित पोस्ट पर कार्रवाई करने के लिए कंपनी के भीतर नाराजगी बढ़ने के साथ ही फेसबुक...

मध्य प्रदेश के भाजपा विधायक ने सोनू सूद से मांगी मदद, कांग्रेस का हमला

भोपाल, 3 जून (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश के रीवा जिले से भाजपा के विधायक और पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ल द्वारा अपने क्षेत्र के मुंबई में फंसे...
- Advertisement -