इटली कहती है: कुल मरने वाले लोगों में से 99% दूसरी बिमारियों से मर गए

नेशनल दुनिया डेस्क

इटली में अब तक कोरोना वायरस के चलते मरने वालों की संख्या करीब 11 हजार पहुंच गई है। इस बीच इटली के राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के एक अध्ययन में बताया गया है कि देश में कोरोनो वायरस के कारण मरने वालों में से 99% से अधिक मरीज दूसरी बिमारियों से ग्रसित थे।

इस सप्ताह के आखिर तक 150% वृद्धि के साथ वायरस से होने वाली मौतों की संख्या 10500 से अधिक हो गई। स्वास्थ्य अधिकारियों ने बीमारी के प्रसार का सामना करने में मदद करने के लिए सुराग पता करने के लिए मृतकों के डेटा के माध्यम से अध्ययन किया है।

दैनिक जी स्टैम्प ने बुधवार को बताया कि प्रधानमंत्री गिउसेप्पे कॉन्टे सरकार अप्रैल की शुरुआत में देशव्यापी तालाबंदी का विस्तार करने के लिए मूल्यांकन कर रही है। इटली में बीमारी के 97,500 से अधिक मामलों की पुष्टि हुई है।

इस दौरान इटली में 10500 से अधिक की मौत हो चुकी है, जो पॉजिटिव मरीजों का करीब 10 फीसदी से भी अधिक है। यह दर दुनिया के अन्य किसी देश में नहीं है।

इटली स्वास्थ्य प्राधिकारण का नया अध्ययन इस बात की जानकारी दे सकता है कि कुल संक्रमित लोगों में इटली की मृत्यु दर, अन्य संक्रमित लोगों की तुलना में 10% अधिक है।

रोम स्थित संस्थान ने देश के लगभग 18% कोरोनो वायरस की मृत्यु के मेडिकल रिकॉर्ड की जांच की, जिसमें पाया गया कि केवल तीन पीड़ितों या कुल 0.8% लोगों की पहले की पैथोलॉजी नहीं थी। लगभग आधे पीड़ितों को कम से कम तीन पूर्व बीमारियों का सामना करना पड़ा था और एक चौथाई को या तो एक या दो बिकारियां पहले से ही थीं।

यह भी पढ़ें :  जयपुर में डीमार्ट और बिग बाजार भी डोर टू डोर करेंगे सामान की आपूर्ति

इस अध्ययन में दावा किया गया है कि इटली में मरने वालों में से 75% से अधिक उच्च रक्तचाप था, लगभग 35% को मधुमेह था और हर तीसरा मरीज हृदय रोग से पीड़ित था।

यहां पर आज भी संक्रमित लोगों की औसत आयु 63 है, लेकिन मरने वालों में उम्र इससे भी ज्यादा है। यह सारा आंकड़ा आईएसएस इटली राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान के नमूनों से प्राप्त हुआ है।

इटली में वायरस से मरने वालों की औसत आयु 79.5 साल है। 17 मार्च तक, 50 से कम उम्र के 17 लोगों की बीमारी से मौत हो गई थी। 40 से कम उम्र के इटली के सभी पीड़ित गंभीर मौजूदा चिकित्सा स्थितियों के शिकार हैं।

जबकि इस रिपोर्ट में दिए गए आंकड़ों में 12.6% वृद्धि के साथ मामलों की वृद्धि में कमी होने का संकेत मिलता है। एक अलग अध्ययन से पता चलता है कि इटली केवल लक्षणों को पेश करने वाले रोगियों का परीक्षण करके मामलों की वास्तविक संख्या को कम करके आंका जा सकता है।

GIMBE फाउंडेशन के अनुसार, लगभग 100,000 इटालियंस ने वायरस का संपर्क स्थापित किया है, जिसको दैनिक इल सोले 24 ओरे ने रिपोर्ट किया। यह आंकड़ा देश की मृत्यु दर को लगभग 2% के वैश्विक औसत के करीब लाएगा।

दूसरी बिमारियों के कारणों में व्यक्ति की घटती इम्यूनिटी, खानपान के संतुलन का अभाव, व्यायाम की कमी, पूरी नींद नहीं लेना जैसे तत्व शामिल हैं। इसलिए हर जगह इसपर जोर दिया जा रहा है।