Dainik bhaskar, Rajasthan patrika
Dainik bhaskar, Rajasthan patrika

जयपुर।
प्रिंट मीडिया को लेकर एक दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने विश्वसनीयता जताई है, किंतु स्वयं को दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा अखबार होने का दम भरने वाला ‘दैनिक भास्कर’ अपनी खबर को लेकर ही सवालों के घेरे में है।

अखबार ने 22 मार्च को सवाई मानसिंह अस्पताल में 2.50 लाख मास्क गायब होने की खबर अपने मुख्य पृष्ठ पर प्रकाशित कर तहलका मचा दिया था। खबर में लिखा गया था कि 450 रुपये कीमत के करीब 11.25 करोड़ के मास्क चोरी या गायब कर दिए गए हैं।

22 मार्च को प्रकाशित दैनिक भास्कर की खबर
22 मार्च को प्रकाशित दैनिक भास्कर की खबर

इस खबर के हवाले से प्रिंट मीडिया की खबर पर विश्वसनीयता दिखाते हुए ‘नेशनल दुनिया’ ने भी अपने डिजिटल माध्यम पर उसी खबर को प्रसारित किया था। लेकिन इसको लेकर अब अस्पताल प्रशासन ने खड़न भेजा है।

अस्पताल प्रशासन ने भेजा खंड़न
अस्पताल प्रशासन ने भेजा खंड़न

सुनने में आया है कि संबंधित रिर्पोटर से अखबार प्रबंधन ने स्पष्टीकरण भी मांगा है। जिस खबर को लेकर अखबार ने प्रमुखता दिखाई थी, उसके खंड़न पर अब कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है, जो भी सवालों के घेरे में है।

अस्पताल प्रशासन ने साफ किया है कि केवल 17 हजार मास्क ही मंगवाए गए थे, जो लाइफ लाइन से लिए गए थे। अस्प्ताल अधिकक्ष डॉ. डीएस मीणा ने बताया कि जरुरत के हिसाब से अस्पताल के डॉक्टर्स और स्टाफ को उपलब्ध करवाए गए हैं।

राजस्थान पत्रिका के 25 मार्च के अंक में प्रकाशित दैनिक भास्कर की खबर का खंड़न
राजस्थान पत्रिका के 25 मार्च के अंक में प्रकाशित दैनिक भास्कर की खबर का खंड़न

अस्पताल प्रशासन ने कहा है कि ‘दैनिक भास्कर’ अखबार ने अपने 22 मार्च के प्रकाशन में 2.50 लाख मास्क गायब होने की खबर छापी थी, जो पूर्णतया निराधार और तथ्यों से परे है। अस्पताल ने अखबार को इसका खंड़न भी भेजा है। इस खंड़न को ‘राजस्थान पत्रिका’ ने प्रकाशित किया है।