Health news

मरीज (patient) का नाम शांति कुमारी बैरवा, जो कि ग्राम बंजारी, तहसील उनियारा, टोंक की रहने वाली हैं। मरीज के परिजनों ने बताया कि उसके गर्दन में करीब 2 महीने पहले अचानक दर्द हुआ।

उसके बाद टोंक में ही सरकारी अस्पताल (Government Hospital) में दिखाया। यहां पर डॉक्टरों ने देखा और गंभीर हालत के देखते हुए उन्होंने एमआरआई (mri) करवाई। वहां डॉक्टरों ने दवा दी, किन्तु आराम नहीं हुआ।

इसके बाद किसी रिश्तेदार ने डॉ. राजवेंद्र सिंह चौधरी (Dr, Rajvendra Singh Choudhary) को दिखाने को कहा। परिजनों ने जयपुर अस्पताल (jaipur brain and spine institute) में डॉ. राजवेंद्र सिंह चौधरी (Dr, Rajvendra Singh Choudhary) को एमआरआई दिखाई, तो उन्होंने मरीज शांति कुमारी का ऑपरेशन करवाने की सलाह दी।

मरीज के भाई सुरेश कुमार ने बताया कि शांति कुमारी का भामाशाह के तहत 7 जनवरी को ऑपरेशन (neurosurgery opration) किया गया, उनकी जेब से एक रुपये का खर्चा भी नहीं हुआ। ऑपरेशन के बाद अब मरीज शांति कुमारी खुद खाना खा लेती हैं, खुद अपने नित्य कर्म कर लेती हैं।

सुरेश कुमार का कहना है कि डॉ राजेंद्र सिंह चौधरी (neurosurgeon in jaipur) ने जो कहा वही किया, ऑपरेशन के बाद अब मरीज पूरी तरह से ठीक हैं और आज मरीज को डिस्चार्ज कर दिया गया है।

ऑपरेशन में मरीज की गली हुई रीढ़ की हड्डी को निकालकर वहां स्क्रू एवं केज प्लेट लगा दिया गया है। इससे मरीज की रीढ़ की हड्डी को सीधा किया गया है।