हनुमान बेनीवाल के पास 15 लाख लोग जुटाने के लिए यह है ‘मास्टर प्लान’-

338
- Advertisement - dr. rajvendra chaudhary
जयपुर।
दिसंबर में 7 तारीख को होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव को लेकर राजस्थान में दोनों ही प्रमुख राजनीतिक दलों के अलावा जो जनता में सबसे ज्यादा चर्चित और संभावित विजेता है, उन्होंने अपना मास्टर स्ट्रॉक खेलने का प्लान शुरू कर दिया है।
खींवसर से निर्दलीय विधायक हनुमान बेनीवाल के द्वारा नई पार्टी बनाने के एलान के बाद से ही राजस्थान की सियासत में भूचाल आया हुआ है। इसको लेकर बेनीवाल ने अपनी तैयारियां जोर-शोर से शुरू कर दी है।
पिछले हफ्ते ही हनुमान बेनीवाल ने जयपुर में 29 अक्टूबर, 2018 को राजस्थान के इतिहास की सबसे बड़ी रैली करने के साथ, उसी रैली में अपनी नई राजनीतिक पार्टी का ऐलान करने की बात कही थी।
वैसे तो हनुमान बेनीवाल ने उस प्रस्तावित विशाल रैली के लिए अभी जगह की घोषणा नहीं की है, लेकिन माना जा रहा है कि जयपुर में मानसरोवर, विद्याधर नगर के अलावा अजमेर रोड पर कहीं यह रैली की जा सकती है।
बेनीवाल दावा कर चुके हैं कि वह राजस्थान में अब तक हुई सभी बड़ी रैलियों का रिकॉर्ड तोड़ते हुए प्रदेश के 15 लाख लोगों को एकत्रित करेंगे, और उसी रैली में अपने नए राजनीतिक दल के नाम का ऐलान भी करेंगे।
यह तो भविष्य के गर्भ में है कि हनुमान बेनीवाल की यह प्रस्तावित ऐतिहासिक रैली कितनी बड़ी होगी, लेकिन एक बात तय है जिस तरह से खींवसर से निर्दलीय विधायक बेनीवाल रैली को लेकर तैयारियां कर रहे हैं, उससे साफ है कि उनके मन में कुछ नया करने का जज्बा जरूर है।
बेनीवाल अपनी रैली को पूरी तरह सफल बनाने के लिए प्रदेश के कई जिलों में गांव-कस्बों के दौरे पर निकले हुए हैं। इस सिलसिले में उन्होंने अब तक बाड़मेर के अलावा नागौर और जयपुर के कई स्थानों पर गांव-गांव जाकर लोगों से जनसंपर्क कर दिया है।
2 दिन से लगातार बेनीवाल जयपुर में सांगानेर तहसील के गांवों में छोटी-छोटी सभाएं कर रहे हैं। वो अपने वादे पर खरा उतरने के लिए लोगों से मिलकर रैली में अधिक से अधिक भीड़ जुटाने का प्रयास कर रहे हैं।
आपको यह भी बता दें कि यह पहला मौका है, जब हनुमान बेनीवाल अपनी रैली के लिए जयपुर जिले की सांगानेर तहसील, मानसरोवर, बगरू विधानसभा के अलावा चाकसू विधानसभा के गांवों में संपर्क करने का प्रयास कर रहे हैं।
यह कह पाना अभी असंभव है कि बेनीवाल 29 अक्टूबर को जयपुर में कितने लोगों की महासभा करेंगे, और उसके बाद इसका आने वाले विधानसभा चुनाव में क्या प्रभाव पड़ेगा?
लेकिन इतना तय है कि बेनीवाल के द्वारा किए गए इस चुनावी शंखनाद के कारण कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी दोनों के नेताओं की धड़कनों ने रफ्तार पकड़ ली है।

ऐसी खबरों के लिए हमारे साथ बने रहिए। सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए हमें आप Paytm नं. 9828999333 पर आर्थिक मदद भी कर सकते हैं।