Lok sabha electoin 2019
Lok sabha electoin 2019

जयपुर।
राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और एनडीए के नागौर से लोकसभा चुनाव 2019 के उम्मीदवार खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल के लिए प्रचार करने वालों में उनके धुर विरोधी भी शामिल हो गए हैं।

भाजपा के निर्देश पर गुरुवार को नागौर के पशु-प्रदर्शनी स्थल में होने वाली नामांकन सभा में भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी, प्रदेश के लोकसभा चुनाव प्रभारी व केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, जोधपुर सांसद व केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, केंद्रीय मंत्री सीआर चौधरी, पूर्व मंत्री राजेन्द्र गहलोत सहित जिले के भाजपा विधायक व पूर्व विधायक, प्रदेश स्तर के आला नेता शामिल होंगे।

इससे पहले खबरें आ रही थीं कि राजेंद्र राठौड़ बेनीवाल के लिए प्रचार नहीं करेंगे। साथ ही यूनुस खान और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को लेकर अभी तक स्थिति साफ नहीं हो पाई है।

बताया जा रहा है कि इन दोनों नेताओं को भी आलाकमान ने नागौर में प्रचार करने को कहा था, लेकिन सियासी कटूता के चलते उन्होंने फिलहाल हां या ना में जवाब नहीं दिया है। बताया जा रहा है कि यूनुस खान को प्रचार के लिए तैयार कर लिया गया है, लेकिन अभी उनके दौरे तय नहीं हुए हैं।

आपको बता दें कि राजेंद्र राठौड़ जहां चूरू से विधायक हैं। वह यहां से 5 बार विधायक रह चुके हैं। बीते दो चुनाव लगातार यहीं से जीतने वाले उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ और बेनीवाल के बीच विधानसभा में तीखी नौक-झौंक होती रही है।

वहीं पूर्व मंत्री यूनुस खान डीडवाना से विधायक रह चुके हैं। पिछले चुनाव में उनको यहां से टोंक भेज दिया गया था, जहां वह सचिन पायलट के सामने हार गए थे। यूनुस खान और हनुमान बेनीवाल के बीच वसुंधरा राजे के शासनकाल में खूब बयानी हमले होते थे। दोनों ओर से कुख्यात बदमाश आनंदपाल मामले को लेकर निशाने साधे जाते थे।

पूर्व सीएम और भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे को हनुमान बेनीवाल लगातार कई बरसों से भला बुरा कहते रहे हैं। दोनों के बीच सियासी कटुता इस कदर है कि वसुंधरा राजे हनुमान बेनीवाल का नाम भी लेना पसंद नहीं करती हैं।

बहरहाल, अब एक ही दल से होने के कारण दोनों के बीच राजनीतिक द्वंद कम होने की संभावना है। फिलहाल भाजपा ने अपने नेताओं को हनुमान बेनीवाल के लिए प्रचार करने का टास्क दे दिया है, लेकिन देखना होगा कि यह कितना कारगर साबित होगा?