जयपुर।

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और नागौर से हाल ही में निर्वाचित हुए सांसद हनुमान बेनीवाल अब भारत की संसद में दहाड़ लगाएंगे।

उन्होंने कहा है कि उनके तेवर नहीं बदलने वाले हैं, जो तेवर विधानसभा में थे, वही तीखे तेवर और देश की संसद के अंदर दिखाई देंगे।

गौरतलब है कि आज हनुमान बेनीवाल ने राज्य विधानसभा में विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है।

23 मई को आए लोकसभा परिणाम में हनुमान बेनीवाल नागौर से कांग्रेस की उम्मीदवार ज्योति मिर्धा से एक लाख 81 हजार से ज्यादा वोटों से जीत कर संसद पहुंचे हैं।

इससे पहले दिसंबर में हुए विधानसभा चुनाव में हनुमान बेनीवाल नागौर की खींवसर विधानसभा से लगातार तीसरी बार विधायक बने थे।

इसके साथ ही राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के जोधपुर के भोपालगढ़, नागौर मेड़ता सिटी से विधायक जीतकर विधानसभा पहुंचे।

राष्ट्रीय लोकतंत्र पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के बीच हुए गठबंधन के बाद हनुमान बेनीवाल को एनडीए के उम्मीदवार के तौर पर नागौर की सीट दी गई थी।

यहां से टिकट मिलने के बाद हनुमान बेनीवाल में न केवल नागौर, जोधपुर, बीकानेर, पाली, राजसमंद, बाड़मेर, जयपुर ग्रामीण, सीकर समेत कई जिलों में भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में मतदान करने के लिए अपील की कि राजस्थान की।

सभी 25 लोकसभा सीटों में से 25 बार लगातार दूसरे लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को विजय हासिल हुई।

आज हनुमान बेनीवाल ने विधानसभा में विधायक पद से इस्तीफा देने के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा कि उनके तेवर केवल विधानसभा में नहीं, बल्कि संसद में भी पूरा देश देखेगा।

उन्होंने कहा कि देश में वीआईपी कल्चर खत्म होना चाहिए और प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, मंत्री, विधायक, सांसद और सरकारी अधिकारियों के बच्चे सरकारी स्कूलों में पढ़ने चाहिए।

जिससे आम जनता को असली लोकतंत्र का स्वाद चखने का स्वाद मिल सके। क्योंकि जब तक यह नहीं होगा, तब तक हालात नहीं सुधर सकते।