नागौर।

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक हनुमान बेनीवाल ने खींवसर से विधानसभा चुनाव जीते ही एक बार फिर दहाड़ लगाई।

अपने चिर परिचित अंदाज में हनुमान बेनीवाल ने भारतीय जनता पार्टी की वसुंधरा राजे और कांग्रेस पार्टी के अशोक गहलोत पर मिलीभगत का आरोप लगाते हुए दोनों को राजस्थान से खदेड़ देना का दावा किया।

हनुमान बेनीवाल ने कहा कि 29 अक्टूबर को उन्होंने पार्टी बनाई और केवल 20 दिन बाद अपने उम्मीदवार को टिकट बांट दिए। इतने कम समय में पार्टी बनाकर अपने उम्मीदवार उतारने का यह अनोखा रिकॉर्ड उन्होंने कायम किया।

खचाखच भरी भीड़ के सामने हनुमान बेनीवाल ने राजस्थान में अपनी पार्टी की 3 सीटें जीतने बड़ी घटना करार देते हुए कहा कि किसानों और जवानों की इज्जत के लिए उन्होंने खूब मेहनत की और जनता ने उनका भरपूर सहयोग किया।

इस मौके पर हनुमान बेनीवाल ने बताया कि बहुजन समाजवादी पार्टी से उन्होंने गठबंधन करने का प्रयास किया, लेकिन वह बिकी हुई पार्टी निकली। यह बसपा अगर गठबंधन करती तो राज्य की तस्वीर और होती, हम दोनों मिलकर कम से कम 60-70 सीटें जीतते।

इस अवसर पर हनुमान बेनीवाल ने कहा कि उन्होंने कम समय में पार्टी बनाकर राजस्थान को हिला दिया है, अगर समर्थकों का सहयोग रहा, किसानों और जवानों ने साथ दिया तो आने वाले चुनाव में देश को भी हिला देंगे।

हनुमान बेनीवाल ने कहा कि वह खुद लगातार तीसरी बार खींवसर विधानसभा से चुनाव जीते हैं। पहली बार भोपालगढ़ में पुखराज ने चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की है। इसी तरह मेड़ता में गरीब की बेटी इंदिरा देवी ने आरएलपी के टिकट पर जीत हासिल की। बायतु में कुछ पिछड़ गए, लेकिन भारतीय जनता पार्टी को तीसरे नंबर पर धकेल दिया।

हनुमान बेनीवाल ने दावा किया कि राजस्थान कि कम से कम 20 सीटों पर जबरदस्त उपस्थिति दर्ज करवाई और दोनों पार्टियों को तगड़ा झटका लगाया। उन्होंने कहा कि नागौर में तेजाजी के भक्तों जीत कर आए हैं, जो विधानसभा में खूब धूम मचाएंगे।

अपने समर्थकों से रूबरू होते हुए हनुमान बेनीवाल ने कहा कि उन्होंने अपने वादे के मुताबिक वसुंधरा राजे को राजस्थान से खदेड़ दिया है और अब अशोक गहलोत की बारी है। उन्होंने वादा किया कि वह जवान और किसान से कभी भी धोखा नहीं करेंगे।

हनुमान बेनीवाल ने पहले की भांति एक बार फिर दावा किया कि राजस्थान में उनके संघर्ष के कारण वसुंधरा सरकार ने जाते-जाते पचास ₹50000 का कर्जा माफ किया और किसानों की ₹10000 तक के बिजली के बिल माफ किए।

उन्होंने कांग्रेस पार्टी के मेनिफेस्टो को याद करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी ने किसानों का संपूर्ण कर्जा माफ करने का वचन दिया है। अब वह विधानसभा में कांग्रेस पार्टी को अपना यह वचन पूरा करने के लिए विवश कर देंगे।

पूरे राजस्थान में आज चुनाव परिणाम के बाद हनुमान बेनीवाल ऐसे पहले नेता बन गए, जिन्होंने जीतने के तुरंत बाद अपने समर्थकों की एक विशाल सभा बुलाकर उस को संबोधित किया और उनके सहयोग के लिए धन्यवाद दिया।