-चिकित्सा व्यवस्थाओं में व्यापक सुधार हेतु मोदी सरकार ने उठाया ऐतिहासिक कदम भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद संशोधन विधेयक के चर्चा पर लोकसभा में बोले सांसद हनुमान बेनीवाल। जयपुर स्थित निम्स मेडिकल कॉलेज महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज की मनमर्जी में अनियमितता के साथ जोधपुर एम्स में जातिगत आधार पर हुई भर्तियों की जांच करने का मुद्दा भी उठाया।
Delhi

नागौर के सांसद हनुमान बेनीवाल ने जयपुर स्थित महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज अस्पताल और निम्स मेडिकल कॉलेज अस्पताल की लोकसभा में खामियां उजागर की।

उन्होंने दोनों अस्पताल और कॉलेजों में भारी अनियमितताओं का आरोप लगाते हुए कहा कि मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के अधिकारियों के साथ दोनों कॉलेजों के प्रबंधकों की गहरी सांठगांठ होने के कारण बड़ी अनियमितताओं के बावजूद भी यह कॉलेज अस्पताल चल रहे हैं, जिनकी बड़े पैमाने पर जांच होने और सख्त कार्रवाई किए जाने की जरूरत है।

राजस्थान के नागौर से राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के सांसद हनुमान बेनीवाल ने सोमवार को लोकसभा में भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद संशोधन विधेयक 2019 की चर्चा में भाग लेते हुए चिकित्सा से जुड़े विभिन्न मुद्दों को सदन में रखा।

उन्होंने सबसे पहले चिकित्सकों की हड़ताल के दौरान हुई मौतों के लिए जिम्मेदारी तय करने की बात कही।

उन्होंने कहा कि चिकित्सकों की हड़ताल के लिए सरकार जिम्मेदार है अथवा चिकित्सक जिम्मेदार है या फिर कोई नेता जिम्मेदार है।

इसकी नीतिगत जिम्मेदारी तय होनी चाहिए, क्योंकि कुछ चिकित्सक अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने के लिए हड़ताल को भड़काते हैं और परिणाम जनता को भुगतना पड़ता है।

उन्होंने राजस्थान में कोई चिकित्सकों की हड़ताल के दौरान मौतों का मामला भी उठाया और कहा कि वहां की सरकारें आज तक यह तय नहीं कर पाएगी।

इनके लिए आखिर जिम्मेदार कौन है? उन्होंने जयपुर में स्थित निम्स मेडिकल कॉलेज और महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज में भ्रष्टाचार व अनियमितता का मामला उठाते हुए कहा कि निम्स मेडिकल कॉलेज का मालिक छात्रा के साथ छेड़छाड़ के आरोप में जेल भी जा चुका है।

एमसीआई से सांठगांठ करके ये लोग लंबे भ्रष्टाचार में लिप्त मगर आज जो बिल सरकार लेकर आई है। उससे निश्चित तौर पर ऐसे संस्थानों में चल रहे भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगा।

उन्होंने कहा कि संसदीय समिति की सिफारिशों के आधार पर आज यह जो बिल लाया जा रहा है चिकित्सा सुविधाओं में आमजन के लिए बेहतर साबित होगा।

उन्होंने कहा कि एमसीआई में सरकार की दखलंदाजी नही होने से भारी भ्र्ष्टाचार हो रहा था मगर आज जो बिल स्वास्थ्य मंत्री लेकर आये है उससे सरकार का नियंत्रण बढ़ेगा और भ्र्ष्टाचार पर अंकुश लगेगा।

प्रधानमंत्री की प्रशंसा करते हुए हनुमान बेनीवाल ने कहा कि उनकी सोच में गांव ढाणी के अंतिम छोर पर बैठे व्यक्ति को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाना लक्ष्य है।

इसी दृष्टि से उन्होंने प्रधानमंत्री आयुष योजना शुरू की प्रधानमंत्री जन औषधि भंडार खोले, आयुष मंत्रालय का गठन करके भारत की प्राचीन चिकित्सा को पुनर्जीवित किया और योग को विश्व मे स्थापित किया।

उनके पिछले पांच साल के कार्यकाल में 10000 नई एमबीबीएस की सीटे बढ़ाई, जबकि 157 देश के विभिन्न जिला अस्पतालों में मेडिकल कोलेजे खोली गई, जो चिकित्सा जगत में क्रान्तिकारी कदम साबित होगा।

जोधपुर एम्स में भर्तियों की हो जांच

हनुमान बेनीवाल ने राजस्थान के जोधपुर में स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्तियों की गड़बड़ी का मामला उठाया।

उन्होंने कहा कि एम्स में जिस स्तर से काम होना चाहिए और स्तर को बनाए रखना जरूरी होता है, मगर जोधपुर में भर्तियों के अंदर बिना विज्ञप्ति निकाले और बिना योग्यता के संविदा के आधार पर और जातिगत के आधार पर लोगों को नियुक्तियां दी गई।

वहीं भारी भ्रष्टाचार के कई मामले सामने आए इसलिए इसकी पृथक से जांच आवश्यक है। साथ ही उन्होंने कहा की एम्स की गवर्निंग काउंसिल में पांच -पांच सांसद होने चाहिए। जिसमें चिकित्सा से जुड़े 2 जानकार भी होने चाहिए।

जोधपुर जिला परिषद के उप चुनाव में रालोपा की जीत को बताया ऐतिहासिक

सांसद हनुमान बेनिवाल में जोधपुर जिले के वार्ड संख्या 25 में हुए उप चुनाव में रालोपा प्रत्याशी अनिता चौधरी के विजयी होने पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि पंचायती राज संस्थाओं में रालोपा की यह ऐतिहासिक शुरुआत है।

उन्होंने कहा कि जिला परिषद के उप चुनाव में भी सरकार में बैठे लोगों ने सरकारी तंत्र का दुरुपयोग किया। उसके बावजूद जनता ने सरकारी तंत्र को आइना दिखाया।