hanuman beniwal narendra modi
hanuman beniwal narendra modi

जयपुर।
राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के मुखिया और नागौर से नव निर्वाचित सांसद, निवर्तमान खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल का केवल नागौर और राज्य के अन्य जिलों में ही नहीं, बल्कि हरियाणा, दिल्ली और सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश में डंका बजा है।

जिन सीटों पर चौधरी पिता—पुत्र, यानी अजीत सिंह और उनके बेटे जयंत सिंह हारे हैं, वहां पर जीत—हार के अंतर में हनुमान बेनीवाल के समर्थकों द्वारा दिए गए वोट का ही अंतर रहा है।

जानकारी के अनुसार संजीव बालियान और सत्यपाल सिंह द्वारा मुजफ्फरनगर और बागपत की सीटों पर चौधरी चरण सिंह के बेटे और पोते का हारने का कारण रालोपा के संयोजक की धाक कारगर साबित हुई है।

इसके अलावा मेरठ, आगरा समेत उत्तर प्रदेश की कई सीटों पर, जहां पर जाट वोटर्स ज्यादा हैं और खेतीहर कौम का वोट अधिक है, वहां पर हनुमान बेनीवाल के समर्थकों द्वारा स्थानीय स्तर पर कई रैलियां आयोजित की गईं।

इन छोटी रैलियों के माध्यम से हनुमान बेनीवाल का संदेश पहुंचाया गया और भाजपा के पक्ष में वोट देने की अपील की गई। हमारे यूपी संवाददाता की रिपोर्ट के अनुसार यहां की किसान जातियों में हनुमान बेनीवाल का खासा क्रेज बताया जा रहा है।

शायद यही कारण है कि किसान नेता के तौर पर अपनी अलग पहचान बना चुके हनुमान बेनीवाल के मुरीद खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी हैं। जब संसद के सेंट्रल हॉल में बेनीवाल ने मोदी से गुलदस्ता भेंट कर अभिनंदन किया तो मोदी ने बेनीवाल की पीठ थपथपाकर जीत की बधाई दी।

यह भी उल्लेखनीय है कि पीएम नरेंद्र मोदी ने पीठ थपथपाकर जीत की बधाई केवल हनुमान बेनीवाल को ही दी, अन्य किसी भी नेता से इतनी देर न तो मुलाकात की और न ही उनको बोलने का मौका दिया गया।

हरियाणा और दिल्ली में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए पक्के तौर पर यह समझा जा रहा है कि हनुमान बेनीवाल नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री होंगे।

यदि ऐसा हुआ तो हनुमान बेनीवाल संसद में अकेले ऐसे सांसद होंगे, जिनकी पार्टी में खुद एक ही सांसद होने के बाद भी उनको केंद्र सरकार में मंत्री बनाया जाएगा।