-बच्चों के साथ दुष्कर्म जैसी घटना को अंजाम देने वाले लोगों को हो सरेआम फांसी
Delhi

गुरुवार को लोकसभा में राजस्थान के नागौर से राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी से सांसद हनुमान बेनीवाल ने लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण संशोधन विधेयक 2019 की चर्चा में भाग लेते हुए विभिन्न मामलों पर अपनी राय व्यक्त की।

सांसद बेनीवाल ने सदन में कहा कि बच्चों के साथ यौन अपराधों की बढ़ती घटना पर अंकुश लगाने के लिए सरकार द्वारा लाया गया, यह बिल निश्चित तौर पर महत्वपूर्ण कदम है।

उन्होंने इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी का भी सदन में धन्यवाद ज्ञापित किया।

सांसद हनुमान बेनीवाल ने सदन में बोलते हुए कहा कि बच्चों के साथ दुष्कर्म की बढ़ती घटनाएं हम सब के लिए चिंता का विषय है और देश की संसद ने भी इस बात के लिए गहरी चिंता व्यक्त की है।

उन्होंने कहा कि यह मेरी व्यक्तिगत राय है कि बच्चों के साथ दुष्कर्म जैसी घटना को अंजाम देने वाले अपराधियों को सरेआम फांसी देनी चाहिए ताकि एक संदेश जाए।

उन्होंने हाल ही में सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश द्वारा इस संबंध में व्यक्त की गई चिंता का सदन में हवाला देते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने भी देश में ऐसी घटनाओं का जिलेवार आंकड़ा सरकार से मांगा है।

साथ ही बाल अधिकारों के लिए कार्य कर रहे एक गैर सरकारी संगठन की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि भारत में हर 15 मिनट में एक बच्चा यौन अपराध का शिकार होता है।

पिछले 10 वर्षों में नाबालिगों के साथ अपराध की घटित घटनाओं में 500% से अधिक वृद्धि हुई जिसकी चिंता करते हुए हमारी सरकार यह बिल लेकर आई।