nationaldunia

जयपुर।
उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा है कि राज्य के विकास में पूरे कमिटमेंट के साथ काम किया जाएगा।

पायलट ने विभागों के बंटवारे के विवाद को थामते हुए कहा है कि विभागों के बंटवारे को लेकर कोई विवाद नहीं था, प्रदेश की सवा सात करोड़ जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए फैसला करने में वक्त लगता है, इसीलिए विभाग बांटने में देरी हुई है।

परोक्ष तौर पर पायलट ने कहा कि प्रदेश में सरपंच चुनाव के लिए अनिवार्य शिक्षा संबंधी पूर्व सरकार के फैसले को बदला जाएगा।

उन्होंने कहा कि पहले शैक्षणिक योग्यता की अनिवार्यता सांसदों और विधायकों पर लागू की जानी चाहिए।

पायलट ने आज सचिवालय भवन में उस कमरे में अपना कार्यभार संभाला, जहां पर कभी देश के उपराष्ट्रपति बनने से पहले प्रदेश पूर्व मुख्यमंत्री, और दिग्गज राजनेता भैरोंसिंह शेखावत बैठा करते थे।

उप मुख्यमंत्री का कार्यभार संभालने के साथ ही पायलट ने कहा कि जन घोषणा पत्र को लागू करना उनकी सरकार का पहला लक्ष्य है।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस पार्टी जुट चुकी है, प्रदेश की सभी 25 सीटों पर जीत दर्ज की जाएगी।

पायलट ने इस मौके पर पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि विभागों के बंटवारे में मामले में बहुत सोच-समझकर निर्णय लिया गया है।

पायलट ने कहा कि जनता की उम्मीदों की कसोटी पर खरा उतरने के लिए उनकी टीम पूरी ताकत से काम करेगी।

एक दिन पहले ही लाए गए अध्यादेश पर पायलट ने एक तरह से बात नहीं करते हुए साधी चुप्पी ली।

कांग्रेस अध्यक्ष पायलट ने कहा कि लोकसभा चुनाव की तैयारियों पर जोर और इसको लेकर कल पीसीसी में मीटिंग होगी।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अभी कैबिनेट की बैठक को लेकर कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

पदभार ग्रहण करने के कुछ समय बाद ही पायलट अपने विधानसभा क्षेत्र, टोंक रवाना हो गए।

किस मंत्री ने क्या कहा-

भंवर सिंह भाटी, उच्च शिक्षमंत्री:-

उच्च शिक्षामंत्री भवंर सिंह भाटी ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि उच्च शिक्षा अभी बहुत सुव्यवस्थित है, लेकिन फिर भी इसको सुधारने के प्रयास होंगे।

उन्होंने कहा कि व्यवसायिक शिक्षा पर जोर दिया जाएगा। भाटी ने दावा कि प्रदेश के युवाओं की उम्मीदों को पूरा करेंगे, साथ ही घोषणा पत्र पर काम किया जाएगा।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि सभी विधानसभाओं में सरकारी कॉलेज खुलेंगे और रिक्त पद को भरा जाएगा।

प्रतापसिंह खाचरिवास, सार्वजनिक यातायात एवं परिवहन विभाग:-

नवनियुक्त परिवहन मंत्री खाचरिवास ने कहा कि प्रदेश की रोडवेज को घाटे में दिखाकर जो भ्रष्टाचार किया जा रहा है, उसपर अंकुश लगाया जाएगा।

उन्होंने दावा किया है रोडवेज के भ्रष्टाचार ने सार्वजनिक यातायात को ठप कर दिया है।

खाचरिवास ने कहा है कि सभी कर्मचारी संगठनों के साथ बैठकर बात करेंगे।

इसके साथ ही उन्होंने दावा किया है कि रोडवेज की सेवा को गांव-गांव तक पहुंचाया जाएगा।

लालचंद कटारिया, कृषिमंत्री:-

प्रदेश के कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने कहा है कि उनकी प्राथमिकता है कि सबसे पहले किसानों को यूरिया के पुख्ता इंतजाम किए जाएं।

इसके साथ ही भविष्य में भी किसानों को खाद और बीज की कमी नहीं आए, इसके लिए भी उचित कदम उठाए जाएंगे।

कटारिया ने कहा है कि किसानों की समस्याओं पर निदान हो और यूरिया की कालाबाजारी पर अंकुश लगे, इसके लिए भी काम किया जाएगा।

उन्होंने सर्दी में किसानों की सबसे बड़ी समस्या रात में बिजली को लेकर कहा है कि उर्जा विभाग से बात कर ऐसे प्रयास किए जाएंगे कि किसानों को दिन में बिजली मिले।

इसके साथ ही किसानों के बेटों को कृषि की अत्याधुनिक जानकारी दी जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग कृषि से जुड़ सकें।

कटारिया ने कहा है कि प्रदेश में कृषि शिक्षा को बढ़ावा दिया जाएगा और अन्नदाता के सम्मान से खिलवाड़ नहीं किया जाएगा।

रमेश मीणा, खाद्य आपूर्ति मंत्री:-

नव नियुक्त खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री रमेश मीणा ने कहा है कि प्रदेश में राशन के माध्यम से मिलने वाले गेहूं की राशनिंग को लेकर सुधार किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि पीडीएस सिस्टम मजबूत हो, इसके लिए यूद्ध स्तर पर काम किया जाएगा।

आम आदमी को शुद्ध वस्तुएं मिलें, इसको लेकर भी उनकी प्राथमिकता रहेगी।

रमेश मीणा ने कहा कि बीजेपी सरकार द्वारा जिन 90 लाख पात्र लोगों को राशन की सुविधा से दूूर किया गया था, उनको भी वापस जोड़ा जाएगा।

इसके साथ ही उनके द्वारा विपक्ष में रहते हुए राशन कार्ड में हुए भ्रष्टाचार की भी जांच करवाएंगे।

उन्होंने कहा है कि सभी पात्रता वाले लोगों को जोड़ा जाएगा।

विश्वेंद्र सिंह:-

पर्यटन एवं देवस्थान मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने कहा है कि विभाग में उनकी प्राथमिकताएं मोन्युमेंट साइट्टस को डवलेपमेंट करना है।

इसके साथ ही नए मान्युमेंट्स की पहचान कर उनको विकसित किया जाएगा, जिससे रवेन्यु मिल सके।

उन्होंने कहा है कि नए पर्यटन स्थलों की पहचान करने कर उनकी देखभाल करने काम किया जाएगा।

विभाग के द्वारा प्रदेश में देशी-विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए मार्केटिंग सुधारेंगे।

इसके साथ ही लोगों को विभाग के द्वारा अधिक से अधिक रोजगाार मिले, इसके लिए कदम बढ़ाएंगे।

देवस्थान विभाग पर बात करते हुए सिंह ने कहा है कि इस विभाग में प्रबंधन की बड़ी कमी देखने को मिली है।

ऐसे में सबसे पहले हम मंदिर, मस्जिद और गुरुद्वारों का प्रबंधन सुधारेंगे। मंत्री सिंह ने बताया कि इसके लिए कमेटी बनाई जाएगी।

पुरानी सभी इमारतों की देखभाल की जाएगी, इसके लिए सरकार से अतिरिक्त बजट लिया जाएगा।

आरटीडीसी को लेकर सिंह ने कहा कि यूनियन के लोगों को विश्वास में लेकर काम किया जाएगा।

यूनियन वालों से मिलकर काम करेंगे। सबको ध्यान रखते हुए इस विभाग को शिखर तक पहुंचाएंगे।

बीडी कल्ला:- उर्जा मंत्री

पिछली सरकार की योजनाओं की समीक्षा करेंगे, किसानों को बिजली की पर्याप्त आपूर्ति की जाएगी।

जनता को निर्बाध बिजली आपूर्ति करने का काम किया जाएगा। इसके साथ ही प्रदेश में बिजली उत्पादन बढ़ाने, चोरी रोकने और नए बिजली कनेक्शनों पर भी विचार किया जाएगा।