-पिछली बार सरकार बदलने के साथ ही इस्तीफा दे गए थे कुलपति डॉ. देवस्वरूप

जयपुर।

राज्य में विधानसभा चुनाव के बाद सत्ता परिर्वतन होने की सुगबुगाहट ने राजस्थान विवि में भी हलचल पैदा कर दी है।

कुलपति से लेकर चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी तक अपने अपने हिसाब से राज्य में सत्ता के रिपीट होने और बदलने का अंदाजा लगा रहे हैं, लेकिन जैसे ही चुनाव सम्पन्न हुए तो विवि में प्रशासनिक हलचल तेज हो गई है।

प्रदेश में सरकार परिर्वतन होने के अहसास ने कुलपति समेत कई प्रशासनिक अधिकारियों की नींद उड़कर रख दी है।

इससे पहले साल 2013 में चुनाव के बाद अचानक बदले समीकरण के बाद विवि में सबसे उच्च अधिकारी ने विवाद पैदा कर पद से इस्तीफ दे दिया था।

तत्कालीन कुलपति डॉ. देवस्वरूप को कांग्रेस समर्थित माना जाता था, जिसके चलते प्रदेश में सरकार बदलते ही इस्तीफा देकर अपने मूल, यूजीसी में संयुक्त सविच के पद पर जाना पड़ा था।

राज्य में अभी भाजपा की सरकार है, लेकिन जिस तरह के एक्जिट पोल आए हैं, उसके बाद विवि के खुद कुलपति प्रो. आरके कोठारी के लिए असहज स्थिति होने की संभावना जताई जा रही है।

विवि के शिक्षक जगत में इस बात की चर्चा हो रही है कि सत्ता बदलने पर क्या विवि में भी कुलपति बदले जाएंगे।

यदि कुलपति को इस्तीफा देना पड़ता है तो बीते पांच साल के दौरान विवि के तीसरे नियमित कुलपति होंगे, जिनको बीच में ही अपना कार्यकाल छोड़ना पड़ेगा।

बीच में दो कुलपति का कार्यभार संभागी आयुक्तों ने संभाला था। ऐसा हुआ तो 5 साल में 6 कुलपति विवि में सेवाएं दे चुके होंगे।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।