hanuman beniwal rlp
hanuman beniwal rlp

-प्रदेश सरकार के चेहरे में बदलाव के संकेत मिले

जयपुर। लोकसभा चुनाव 2019 का परिणाम कल, यानी 23 मई को घोषित होगा। लेकिन उससे पहले ही तीन राज्यों में कांग्रेस और कांग्रेस समर्थित सरकारों की हवा खिसक चुकी है।

सबसे ज्यादा खस्ताहाल मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार की है। इसके बाद कर्नाटक सरकार, जो कि कांग्रेस के सहयोग से चल रही है। इसके बाद राजस्थान सरकार में भी अंदर ही अंदर चल रही सिर फुटोव्वल की नौबत आती हुई नजर आ रही है।

हर नेता की नजर जोधपुर में टिक गई है। बीजेपी ने कहा कि कांग्रेस नेता अशोक गहलोत की राजनीतिक का अंत इसी जोधपुर जिले से होगा।

बता दें जोधपुर में अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत चुनाव लड़े थे। सियासी जानकारों की मानें तो जोधपुर की सीट एक बार फिर से भाजपा के पास जाती हुई नजर आ रही है। यदि ऐसा होता है तो निश्चित तौर पर अशोक गहलोत को अपनी सीट बचाने में बड़ी ताकत लगानी होगी।

इधर, सचिन पायलट के रुख से शायद कांग्रेस आलाकमान बेखबर है। बताया तो यहां तक जा रहा है कि सचिन पायलट की भाजपा नेताओं से मुलाकात हो चुकी है। बीते दिनों चर्चा चली थी कि सचिन पायलट कई विधायकों के साथ पाला बदलकर भाजपा के सहारे सरकार बना सकते हैं।

बहरहाल, इसको लेकर कल शाम तक इंतजार किया जा रहा है। लेकिन बीते दिनों पूर्व गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने कहा था कि 23 के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री गहलोत नहीं होंगे। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि चेहरा कौन होगा, यह समय बताएगा, लेकिन मुख्यमंत्री जरूर बदला जाएगा।

इसके कुछ दिनों बाद ही पूर्व शिक्षामंत्री वासुदेव देवनानी ने भी कहा था कि कांग्रेस के 23 विधायक भाजपा के पक्ष में आने को तैयार खड़े हैं। सचिन पायलट के बगावती तेवर कांग्रेस विधानसभा चुनाव के बाद देख चुकी है।
एक चर्चा जो बीते कई दिनों से हो रही है, वह यह है कि सचिन पायलट कई विधायकों को साथ लेकर भाजपा के सहयोग से अपनी सरकार बना सकते हैं। यदि ऐसा हुआ तो कांग्रेस की हालत तो खस्ता होगी ही, साथ ही प्रदेश में एक बार फिर से कांग्रेस को सत्ता से दूर जाना होगा।

दो दिन पहले ईवीएम को लेकर मचाए गए कोहराम में यह भी कहा गया था कि राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ का चुनाव भाजपा ने जानबूझकर कांग्रेस को जितवाया था, ताकि ईवीएम पर शक नहीं हो। देखने वाली बात कल से शुरू होगी।