-शहीद पीराराम जी थोरी की शहादत को मेरा सलाम – डॉ सतीश पूनियां

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ सतीश पूनियां आज सोमवार को बाड़मेर के बांछड़ाउ के शहीद पीराराम जी थोरी की पार्थिव देह के साथ उनके पैतृक ग्राम पहुंचे और उनके परिजनों से मिलकर उन्हें सांत्वना दी।

सतीश पूनिया ने शहीद को पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि दी । इस दौरान प्रदेशाध्यक्ष पूनिया के साथ सेवानिवृत्त आईपीएस महेंद्र चौधरी, प्रियंका चौधरी, बाला राम मूंड, राजेंद्र सिंह, आयदान सिंह भाटी, लादूराम मेघवाल सहित भाजपा के अनेक कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

उससे पूर्व सतीश पूनिया ने बाड़मेर में पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि आज काँग्रेस प्रदेश कार्यालय के बाहर जनसुनवाई के दौरान रोजगार के लिए प्रदर्शन कर रही नर्सिंगकर्मी महिलाओं से मारपीट करना, उनके बाल खींचकर प्रताड़ित करना, उनसे गाली गलौच करना घोर निंदनीय है।

ऐसी घटनाओं की भाजपा निंदा और भर्त्सना करती है। जबकि कांग्रेस सरकार महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान करने की बात करती है, जो कि झूठ है।
मुख्यमन्त्री राजस्थान की जनता से किये गए चुनावी वादे पूरे करने के बजाए सुबह से शाम तक भाजपा, आर.एस.एस., प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह पर लगातार टिका टिप्पणी करके अपनी आका सोनिया की खुशामद में लगे हुए हैं।

ताकि कैसे भी करके मुख्यमंत्री की कुर्सी बची रहे। उनको लगता है कि ये मेरा अंतिम कार्यकाल है, इस कार्यकाल को कैसे पूरा करूं। निकाय चुनाव में मिली बढ़त को बढ़ा-चढ़ा कर बता रहे हैं।

ऐसा लगता है कि वे अपने पुत्र की लोकसभा चुनाव में हार के बाद विचलित हो रहे हैं, इस कारण वो झूठे और भ्रम फैलाने वाले बयान देते रहते हैं।
महाराष्ट्र में चल रही गतिविधियों पर बोलते हुए पूनिया ने कहा कांग्रेस राज में 81 बार राष्ट्रपति शासन विभिन्न राज्यों में लगाया गया।

90 के दशक में हरियाणा के चुनाव में बहुमत को दरकिनार कर भजनलाल को सत्ता दिलाने का काम कांग्रेस ने किया। ऐसे अनेक उदाहरण हैं।

इसलिए कांग्रेस और कांग्रेस के नेता हमें यह नहीं सिखाए क्या सही है, बल्कि अपनी गिरहबान में झांके। राजस्थान के मुख्यमंत्री को महाराष्ट्र की चिंता न करके राजस्थान की जनता की चिंता करनी चाहिए।

राजस्थान में सरकारी तंत्र और अपने सरकार के मंत्रियों के दम पर निकाय चुनाव में लोकतंत्र की हत्या करने वाले अशोक गहलोत दे रहे है महाराष्ट्र में लोकतंत्र की हत्या की दुहाई
भरतपुर के रूपवास में सुभाष गर्ग और अलवर में टीकाराम जूली ने किया संवैधानिक मर्यादाओं का हनन !

महाराष्ट्र में भाजपा ने सरकार बनाई। एनसीपी ने पार्टी को समर्थन दिया है। एनसीपी का अपना स्वयं का मसला है। उनके दल के नेता ने लिखित में पार्टी को समर्थन दिया।

उन्होंने कहा कि विधानसभा के 2 दिन चलने वाले सत्र में पार्टी किसानों के कर्ज माफी, फसल बीमा का लाभ, बेरोजगारों पर लाठीचार्ज और भत्ता देने की बात, कानून व्यवस्था के चौपट होने के तथ्यों को प्रमुखता से उठाएगी।

पूनिया ने कहा कि कांग्रेस के 11 महीनों के शासन में एक लाख 42 हज़ार मुकदमें दर्ज किए गए हैं, जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है। आज राजस्थान सर्वाधिक अपराध ग्रस्त प्रदेश बन गया है।

मुख्यमंत्री स्वयं गृहमंत्री का पदभार संभाले हैं। ऐसे में राजस्थान के लिए शर्म की बात है। मुख्यमंत्री स्वयं दिग्भ्रमित है और मध्यप्रदेश के पूर्वमुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की तरह बोलते रहते हैं।