alwar rape
alwar rape

जयपुर।
अलवर के थानागाजी क्षेत्र में 5 राक्षस रूपी लड़के पति के सामने ही एक विवाहित महिला का गैंगरेप करने में इसलिए कामयाब हो गए, क्योंकि घटना के वक्त गैंगरेप पीड़िता ने पति की जान बचाने के लिए खुद को दरिंदों के आगे सरेंडर कर दिया था।

पीड़िता के देवर ने एक टीवी चैनल को बताया कि उसका भाई जयपुर में काम करता है, जबकि भाभी थानागाजी में रहती हैं। घटना के दिन दोनों थानागाजी के बाजार में खरीददारी करने गए थे।

तभी बलात्कारियों ने उनको अकेला देखकर पीछा किया। जब दोनों शहर से दूर घटना स्थल पर सुनसान इलाके में पहुंचे तो दो बाइक पर सवार 5 दरिंदों ने गाड़ी आगे लगाकर भाई—भाई को रोक लिया। इसके बाद उसके भाई के साथ डंडों से मारपीट करने लगे।

जब आरोपियों ने पीड़िता के पति को जान से मारने लिए पीटना शुरू किया तो पीड़िता ने पति की जान बचाने के लिए मजबूरन रेपिस्टों के सामने खुद को सरेंडर कर​ दिया। इसके बाद पति को बांध दिया गया और पांचों दरिंदों ने बारी बारी से 3 घंटे तक महिला के साथ रेप किया।

पीड़िता के देवर ने बताया कि पकड़ने के बाद मुख्य मार्ग से दूर रेत के टीलों के पीछे दोनों के कपड़े उतरवाए दिए। महिला के साथ रेप करने की कोशिश की, लेकिन जब वह आसानी से नहीं मानीं तो फिर दोनों को ब्लेकमेल करने के लिए उसके पति को पीटा और बिना कपड़े उनकी विडियो रिकॉर्डिंग करनी शुरू कर दी।

महिला के देवर के अनुसार पांचों आरोपियों ने वीडियो रिकॉडिंग के दौरान ही भाई को डंडों से पीटना शुरू कर दिया। जिसपर भाभी ने बचाने का प्रयास किया। इससे नाराज होकर उन्होंने दोनों को और ज्यादा पीटा। पति की जान बचाने के लिए आखिरकार महिला ने खुद को दरिंदों के आगे सरेंडर कर दिया।

जिसके बाद पांचों ने बारी-बारी से उसके साथ रेप किया। गंभीर बात यह है कि तीन घंटों तक यह सब चलता रहा और किसी को पता ही नहीं चला। रेप करने के बाद जाते—जाते दरिंदे महिला और उसके पति के पास रखे 2000 रुपये भी ले गए।

इस घटना के बाद पीड़िता और उसका पति इतने सदमे में चले गए कि अगले ​तीन दिन तक तो घटना के बारे में अपने परिवार को भी नहीं बता पाए। घटना के दौरान ही मुकेश गुर्जर ने पीड़िता के नंबर ले लिए और बाद में घटना के वक्त बनाए 11 वीडियो को वायरल करने की धमकी देकर 9000 रुपए भी वसूल लिए।

सामूहिक दुष्कर्म केस में तीन गिरफ्तार, मुख्य आरोपी की तलाश जारी

अलवर के थानागाजी में पति को बंधक बनाकर पत्नी के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म कर उसका वीडियो वायरल करने के मामले में पुलिस ने अब तक तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

हालांकि अभी तक मुख्य आरोपी अभी तक पुलिस की पकड़ से दूर है। पुलिस की एक दर्जन से अधिक टीमें तीन अन्य आरोपियों की तलाश में जुटी है।

जानकारी के अनुसार थानागाजी इलाके में पति को बंधक बनाकर दुष्कर्म करने के मामले में पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

शेष नामजद आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं। पुलिस को अशोक, इंद्राज और मुकेश को पकड़ने में सफलता हासिल हुई है।

मुकेश पर आपत्तिजनक वीडियो वायरल करने का आरोप है। इंद्राज प्रागपुरा का रहने वाला है और ट्रक ड्राइवर है। पुलिस पीड़िता के आज बयान दर्ज कराएगी। पुलिस पीड़िता का मेडिकल पूर्व में ही करा चुकी है।