ashok gehlot sachin pilot
ashok gehlot sachin pilot

जयपुर।

राजस्थान में सरकार बदलने के साथ ही प्रदेश के सरकारी स्कूलों की दशा में सुधार नहीं लगी है। राज्य में 26 हज़ार शिक्षकों की भर्ती के बाद एक और खुशखबरी सामने आई है।

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के निर्देश के बाद पिछली बीजेपी सरकार में बंद हुए सभी 20 हज़ार से अधिक राजकीय विद्यालयों की समीक्षा कर उनमें से 4000 स्कूलों को फिर से शुरू किया जाएगा।

सरकारी निर्देश के बाद शिक्षा विभाग के अधिकारियों को बंद हुए 20 हज़ारों से ज्यादा स्कूलों का रिव्यू करने को कहा गया है।

पहले फेज में राजस्थान के 4000 स्कूलों को ओपन किया जाएगा। गौरतलब है कि राजस्थान में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सरकार के समय शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने बच्चों की संख्या कम होने की बात कहते हुए 20 हज़ार से ज्यादा सरकारी विद्यालयों पर ताले लगाए थे।

सभी स्कूलों के बच्चों को नजदीकी दूसरे सरकारी विद्यालयों में मर्ज कर दिया गया था। इनमे से अधिकांश स्कूल पांचवीं तक के थे।

गौर करने वाली बात यह है की जहां पर प्राइवेट सरकारी स्कूलों को कम बच्चे होने का बहाना बनाकर बंद किया गया था। वहां पर प्राइवेट स्कूल को पनप रहे हैं, ऐसे में सरकार की नीयत पर सवाल उठना लाजमी है।

इससे पहले 2003 से 2008 वाली सुंदरा राज्य सरकार में तत्कालीन शिक्षा मंत्री दूसरे गांव में सरकारी स्कूल खोल दिये थे।

जबकि 2013 से 2018 के बीच वसुंधरा सरकार ने कम बच्चे और संसाधनों के अभाव में 20 हज़ार से ज्यादा स्कूलों पर ताले लटका दिए।