Babulal dhayal in one village

Jaipur

एक नाम के लोग आपने अनेक देखे होंगे, लेकिन पहली बार हम आपको एक ही नाम की चार व्यक्तियों से रूबरू करवा रहे हैं।

मजेदार बात यह है कि यह चारों लोग एक ही नाम के तो हैं ही, साथ ही साथ एक ही गांव के भी हैं।

ये चारों ही बाबूलाल धायल हैं, चारों एक ही गांव के रहने वाले हैं। पहले बाबूलाल धायल न्यूज-18 में राजस्थान के वरिष्ठ पत्रकार हैं। दूसरे बाबूलाल धायल दिल्ली पुलिस में हैं। तीसरे बाबूलाल धायल मुम्बई में बिजनेसमैन हैं, और चौथे बाबूलाल धायल का गुजरात में अपना खुद का कारोबार है।

वरिष्ठ पत्रकार बाबूलाल धायल ने बताया कि “वो चारों 25 साल बाद जयपुर में एक साथ मिले हैं, यहां उनके बड़े भाई पुलिस निरीक्षक (Inspector) हरिसिंह धायल के भांजे की शादी का समारोह था।”

पत्रकार धायल ने बताते हैं कि “पचार स्कूल में हम चारों एक ही कक्षा में 6वीं से 10वीं तक साथ पढ़ते थे, खाचरियावास स्कूल में भी हमारा साथ ही आना जाना रहा।”

फर्स्ट, सेकंड, थर्ड और फोर्थ से होती थी पहचान, नाम से नहीं

बाबूलाल धायल बताते हैं कि उनके एक ही नाम के चलते हमेशा असमंजस रहता था, “कक्षा में टीचर से लेकर छात्र तक सब हमारे एक नाम से हमेशा कंफ्यूज रहे।”

उनके मुताबिक उन चारों को “क्लास में फर्स्ट, सेकंड, थर्ड, फोर्थ कहकर पुकारा जाता, तब जाकर कहीं समझ मे आता कि किसका नाम पुकारा जा रहा है।”