30 C
Jaipur
शनिवार, सितम्बर 19, 2020

हरियाणा में आंदोलन कर रहा किसान इसलिए है खट्टर सरकार से नाराज, पढ़िए पूरा सच

- Advertisement -
- Advertisement -

रोहतक। हरियाणा में किसान आंदोलन के दौरान पुलिस प्रशासन के और अन्नदाता के बीच में भिड़ंत हो गई, जिसमें कई किसानों को चोटें आई हैं, जबकि कुछ पुलिसकर्मियों की भी चोटिल होने की सूचना है।

हरियाणा के पीपली अनाज मंडी में आंदोलन के लिए जा रहे थे। किसानों को पुलिस के द्वारा रोका गया और कोरोना की महामारी को देखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रैली रोकने का आग्रह किया लेकिन किसानों ने उसको मारने से इंकार कर दिया। जिसके बाद पुलिस द्वारा रैली जारी रखने की उनको अनुमति दे दी गई।

रैली के दौरान पुलिस और किसानों की भीड़ के बीच हंगामा हो गया। हंगामे को नियंत्रित करने के लिए पुलिस के द्वारा लाठीचार्ज किया गया, जिसमें कई किसानों के सिर में हाथों में पैरों में और कई जगह गंभीर चोटें आई हैं।

किसानों ने कहा है कि 15 सितंबर तक अगर सरकार ने जारी किए गए तीनों अध्यादेश वापस नहीं लिए तो प्रदेश के प्रत्येक जिला स्तर पर धरना दिया जाएगा।

दरअसल पिछले दिनों ही सरकार के द्वारा कृषि सुधार का दावा करते हुए तीन अध्यादेश जारी किए गए थे, जिनको लेकर किसानों, व्यापारियों और मजदूरों में गहरा रोष है। इसी रोज को भुनाने के लिए विपक्षी दल कांग्रेस और वामपंथी संगठनों के द्वारा किसानों को उद्वेलित करने का काम किया गया है।

मोटे तौर पर देखा जाए तो तीनों अध्यक्षों का मजमून बहुत स्पष्ट है। पहले अध्यादेश में कहा गया है कि अब व्यापारी चाहे तो किसान से खेत में ही फसल खरीद सकता है, यानी किसान को मंडी आने की जरूरत नहीं है।

दूसरे अध्यादेश में व्यापारियों के लिए आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत स्टॉक लिमिट को खत्म कर दिया गया है। अब आढ़तियों के द्वारा यदि अनाज, दालों और फल व सब्जियों का स्टोक किया जाता है तो गैरकानूनी नहीं होगा।

इसके साथ ही सरकार ने तीसरे अध्यादेश में एग्रीकल्चर कॉन्ट्रैक्ट करने के लिए अनुमति जारी की है, यानी अगर कोई किसान किसी कंपनी के साथ कॉन्ट्रैक्ट करके उसके लिए फसलों का उत्पादन करना चाहे तो वह कर सकता है।

आंदोलन में शामिल किसानों, कारोबारियों और मजदूरों का कहना है कि इससे सरकार मंडियों को खत्म करना चाहती है और एग्रीकल्चर को निजी हाथों में सौंपकर किसानों को कंपनियों के मजदूर बनाना चाहती है।

इधर सरकार का कहना है कि जो किसान अब तक अपने उत्पादन को मंडी ले जाने में सक्षम नहीं होता था, उसके घर पर आकर कारोबारी उसकी फसलों, अनाज, दालों को खरीद सकता है। इससे किसान को कहीं भी जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी और उसका उत्पादन घर बैठे ही बिक जाएगा।

आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत स्टॉक लिमिट खत्म करने के कारण कारोबारियों को कोल्ड स्टोरेज की व्यवस्था अधिक करनी होगी। साथ ही जो किसान कम भाव के कारण अपना उत्पादन नहीं भेज पाते थे, उनसे भी समय पर व्यापारियों द्वारा खरीद की जा सकेगी।

एग्रीकल्चर कॉन्ट्रैक्ट अधिनियम की वजह से रिलायंस फ्रेश जैसी बड़ी कंपनियां छोटे-बड़े किसानों के साथ कॉन्ट्रैक्ट करके उनके उत्पादन को फसल तैयार होने से पहले ही खरीदने का काम करेगी। फसल उत्पादन के बाद पूरा उत्पादन उसी भाव में कंपनी को खरीदना होगा, चाहे उसके बाद उत्पादन का भाव बढ़े या फिर घटे।

तीनों अध्यादेश विस्तार से अध्ययन करने के बाद इस बात की जानकारी देते हैं कि इन से किसानों को नुकसान नहीं होगा, बल्कि कारोबारियों को इसका खामियाजा उठाने के तौर पर प्रतियोगिता का सामना करना होगा।

हरियाणा में प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस और किसानों का नेतृत्व कर रहे वामपंथी संगठन के द्वारा सरकार को बदनाम करने के लिए किसानों को बरगलाने का काम किया जा रहा है। कोरोना की वैश्विक महामारी के दौरान उनको आंदोलन में शामिल कर सरकार के खिलाफ उग्र होने के लिए बहकाया जा रहा है।

- Advertisement -
हरियाणा में आंदोलन कर रहा किसान इसलिए है खट्टर सरकार से नाराज, पढ़िए पूरा सच 3
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

दुबई में एयर इंडिया एक्सप्रेस के परिचालन को अस्थायी रूप से बंद किया गया

नई दिल्ली, 18 सितम्बर (आईएएनएस)। दुबई में एयर इंडिया एक्सप्रेस के परिचालन को शुक्रवार से 15 दिनों तक के लिए अस्थायी रूप से बंद...
- Advertisement -

बिहार : भाजपा ने 70 जगहों पर प्रेस कांन्फ्रेंस कर विकास को लेकर विपक्ष पर हल्ला बोला

पटना, 18 सितंबर (आईएएनएस)। बिहार में इस साल होने वाले चुनाव को लेकर अभी तक तारीखों का एलान नहीं हुआ है, लेकिन विकास के...

इंदीप बख्शी का पार्टी सॉन्ग सईयां रिलीज

नई दिल्ली, 18 सितम्बर (आईएएनएस)। शहनाज गिल के स्वयंवर शो मुझसे शादी करोगे में नजर आए पंजाबी सिंगर इंदीप बख्शी ने अपने नए पार्टी...

पूर्वाचल के चौतरफा विकास पर सरकार का जोर

लखनऊ 18 सितंबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पूर्वांचल में समग्र विकास के लिए रोड मैप बना रही है। तुलानात्मक रूप से...

Related news

पिंकी प्रधान आशिक की तीसरी पत्नी बनने से पहले एक साल लिव इन रिलेशनशिप में रही!

बाड़मेर। 'पिंकी प्रधान' उर्फ समदड़ी पंचायत समिति प्रधान पिंकी चौधरी अपने आशिक अशोक चौधरी की तीसरी पत्नी बनने से पहले एक साल...

बाड़मेर: लड़की भगा ले गया शिक्षक, मिलते ही घरवालों ने किया ऐसा हाल

बाड़मेर। राजस्थान के सीमावर्ती जिले बाड़मेर में एक स्कूल के अध्यापक पर जानलेवा हमले और नाक व दोनों कान काटने की घटना सामने...

पिंकी चौधरी भागने वाली लड़कियों की रोल मॉडल बनी, चार लड़कियों ने ली प्रेरणा और प्रेमियों के साथ भाग गईं

बाड़मेर/टोंक। पिछले महीने बाड़मेर के समदड़ी पंचायत समिति की प्रधान पिंकी चौधरी के घर से भागने और आपने प्रेमी अशोक चौधरी के...

किसानों को बहकाने और बरगलाने का काम कर रहे कांग्रेस-वामपंथी दल

-मोदी सरकार के तीनों ही विधेयक क्रांतिकारी हैं, किसान को मिलेगी तरक्की, मजबूती और ताकत। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने हमेशा किसानों,...
- Advertisement -