प्रधान पिंकी चौधरी के भागने और फिर प्रेमी से कोर्ट मैरिज करने की बात को लेकर अब हुआ नया विवाद

बाड़मेर। जिले के समदड़ी पंचायत समिति के प्रधान पिंकी चौधरी के पीहर जाने की बात कहकर अपने प्रेमी अशोक चौधरी के साथ जोधपुर में उसके घर चले जाने और पिंकी चौधरी के पिता द्वारा इस मामले में बेटी के लापता होने का मुकदमा दर्ज करवाने के 3 दिन में पुलिस द्वारा उसे पकड़ने के बाद मामला ठंडा हो तो वह नजर आ रहा था, लेकिन अब एक बार फिर से नया विवाद सामने आ गया है।

दरअसल पिंकी चौधरी को पुलिस वापस लाने में कामयाब रही, लेकिन उसने अपने प्रेमी अशोक चौधरी के साथ लिव इन रिलेशनशिप में रहना ने केवल स्वीकार किया, बल्कि आगे भी उसी के साथ रहने की जिद पकड़ी।

जिसके बाद दोनों परिवारों में सामाजिक तौर पर सहमति बनकर तलाक हो गया और पिंकी चौधरी पति बने अपने प्रेमी अशोक चौधरी के घर चली गई।

इस मामले को करीब 15 दिन बीत चुके थे। प्रकरण को लेकर जहां पूरे राजस्थान में पिंकी चौधरी के द्वारा किए गए करते को लेकर जबरदस्त आलोचना हुई तो दूसरी तरफ उस के पक्ष में भी काफी लोग खड़े नजर आए।

खबरें प्रकाशित होने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने पिंकी चौधरी को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया दी और कई लोगों ने तो यहां तक कह दिया कि इस औरत को समाज में रहने का अधिकार ही नहीं है।

सोशल मीडिया पर जारी क्रिया और प्रतिक्रिया के मामले में अलग-अलग राय सामने आई, किंतु अब नया विवाद यह हुआ है कि बाड़मेर में दो समुदायों के बीच यह मामला प्रतिष्ठा का विषय बनता हुआ नजर आ रहा है।

यह भी पढ़ें :  लूट के अड्डे बने कोचिंग संस्थान, अयोग्य दे रहे हैं योग्यता की सीख!

जानकारी में आया है कि पिंकी चौधरी के द्वारा दूसरी शादी करने और अपने पति को छोड़ने को लेकर बस स्टैंड पर दो जनों के बीच हुई बहस में दो समुदायों के बीच विवाद का रूप ले लिया है।

एक खेमे में के द्वारा पिंकी चौधरी का समर्थन किया जा रहा है तो दूसरे गुट ने उसके विरोध स्वरूप अपनी बांहें चढ़ा ली है। हालात इस कदर बिगड़ गए हैं कि दोनों समाजों के बीच पिंकी चौधरी झगड़े का बड़ा कारण बनती जा रही है।