एक ही जाति के युवक-युवती ने घर से भागकर शादी की, अब घरवालों से जान का खतरा

टोंक। पिछले दिनों बाड़मेर के समदड़ी पंचायत समिति की प्रधान पिंकी चौधरी के भागकर अपने प्रेमी के साथ शादी करने और 31 अगस्त को बाड़मेर के ही एक अन्य प्रेमी जोड़े के द्वारा घर से भागकर विवाह करने के बाद अब टोंक में भी एक ऐसा ही मामला सामने आया है।

इसको लेकर राजस्थान उच्च न्यायालय की जयपुर पीठ ने मंगलवार को प्रेम विवाह करने वाले सजातीय युगल को पुलिस सुरक्षा देने के आदेश पुलिस थानाधिकारी बरौनी को दिए है।

न्यायाधीश इंद्रजीत सिंह की एकलपीठ ने यह आदेश बरोनी थानाक्षेत्र निवासी युवक सुरेंद्र जाट तथा जयपुर जिले के गोविंदगढ़ थानाक्षेत्र निवासी युवती द्वारा एडवोकेट लक्ष्मीकांत शर्मा मालपुरा के जरिये दायर की गई संयुक्त आपराधिक विविध याचिका पर सुनवाई के बाद निस्तारण करते हुए दिया।

प्रेमी युवक-युवती की याचिका में बताया गया था कि याचिकाकर्ताओं ने 2 सितम्बर 2020 को मंदिर में प्रेम विवाह कर लिया। इस विवाह से युवती के परिजन नाराज हैं तथा उनकी जान को खतरा है, इसलिए उन्हें पुलिस सुरक्षा दी जाए।

अदालत ने सुनवाई के बाद प्रेमी दम्पति से पूछताछ कर पुलिस सुरक्षा देने के आदेश बरोनी पुलिस थानाधिकारी को दिए है। कोर्ट ने सुनवाई कर आदेश देते हुए याचिकाकर्ताओं की जानमाल की रक्षा करने को कहा है।

यह भी पढ़ें :  "गहलोतजी, मैं अध्यक्ष अंतिम चेतावनी दे रहा हूं, संभल जाओ"-पायलट