विश्नोई महासभा को पत्र: ‘आपके इलाके में मांस की 50 दुकान खोलनी है, बाहुल्य वाले गांवों की सूची दें’

जयपुर। राजस्थान में अब तक केवल सरकार के द्वारा शराब की दुकानें और बीयर बार खोलने का लक्ष्य रखा जाता था और शराब बिक्री का टारगेट शराब विक्रेताओं को दिया जाता था, लेकिन अब सरकार मांस बेचने का भी टारगेट दे रही है।

सरकार की तरफ से पत्र लिखकर अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा से पूछा है कि बीकानेर के नोखा पंचायत समिति क्षेत्र में विश्नोई समाज के बाहुल्य वाले कितने गांव हैं, ताकि वहां पर मांस की दुकानें नहीं खोलें।

राजस्थान ग्रामीण आजीविका विकास परिषद के द्वारा अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा को पत्र लिखकर कहा गया है कि आपके समाज के बाहुल्य वाले गांव की सूची लिखित में महासभा के लेटर पैड पर दें, ताकि वहां पर मांस की दुकानें नहीं खोलें।

राजस्थान ग्रामीण आजीविका विकास परिषद का कहना है कि राजस्थान सरकार का नोखा पंचायत समिति क्षेत्र के गांवों में वर्ष 2020 2021 में मीट की 50 दुकानें खोलने का लक्ष्य है। पत्र में लिखा है कि हमारे प्रतिनिधि आपके समाज के बहुले वाले गांव में मीट की दुकान खोलने गए तो विरोध का सामना करना पड़ा है।

अतः आपको लेख है कि आपके समाज के बाहुल्य वाले गांव की लिस्ट उपलब्ध करवाएं। इसके साथ ही यह भी लिखा है कि गांव की पूरी सूची अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा के लेटर पैड पर लिखित में दें, ताकि उन इलाकों में मीट की दुकान नहीं खोलें।

यह भी पढ़ें :  किसानों को 3 लाख तक के लोन पर देना होगा इतना कम ब्याज, कृषि मंत्री ने की घोषणा