32 C
Jaipur
शुक्रवार, सितम्बर 18, 2020

कोरोना संक्रमित की मौत का शव मिलेगा परिजनों को, इस राज्य की सरकार ने किया फैसला

- Advertisement -
- Advertisement -


जयपुर। अब तक कोरोना से मौत होने पर मृतक का परिजनों को शव नहीं दिया जाता था, जिसके चलते उसके प्रियजन अंतिम दर्शन से ही महरूम रह जाते थे, लेकिन अब परिजन चाहेंगे तो उनको शव अंतिम संस्कार के लिए सौंप दिया जाएगा।

मानवीय संवेदना और आमजन की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार और चिकित्सा विभाग ने कोविड संक्रमित मरीजों की मौत के बाद उनकी देह को परिजनों को सौंपने और पूरे मेडिकल प्रोटोकॉल के साथ अंतिम संस्कार कराने के निर्देश दिए हैं।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि आमजन की मंशा को जानकर मुख्यमंत्री ने कोविड संक्रमितों की देह को उनके परिजनों को सौंपने और पूर्ण सावधानी के साथ अंतिम संस्कार कराने के निर्देश विभाग को दिए हैं।

ऐसे में आमजन को पूर्ण सावधानी बरतनी होगी। भावनात्मक रूप से बरती गई कोई भी लापरवाही आमजन के लिए घातक हो सकती है।

शर्मा ने बताया कि विशेषज्ञों के अनुसार कोविड का संक्रमण ड्रॉपलेट्स के जरिए होता है, यदि मृतक देह को निर्धारित प्रोटोकॉल के साथ समुचित सावधानियां अपनाते हुए संभाला जाए तो मृतक देह से कोविड संक्रमण के फैलने के कोई साक्ष्य उपलब्ध नहीं है।

शर्मा ने बताया कि दिशा-निर्देशों के अनुसार प्रत्येक मृतक की कोविड जांच करवाना जरूरी नहीं है। उसी व्यक्ति की कोविड जांच की जाए जिनकी मृत्यु आईएलआई या एसएआरआई लक्षण से हुई हो।

जांच रिपोर्ट के बिना भी मृतक का देह परिजनों को दी जा सकती है। प्रत्येक मृतक का शव परीक्षण (पोस्टमार्टम) करना भी जरूरी नहीं है।

यदि किन्हीं विशेष कारणों से शव परीक्षण किया जाए तो संक्रमण को रोकने के लिए विशेष रूप से भारत सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन की पालना के अनुसार किया जाए।

प्रोटोकॉल के अनुसार पारदर्शी बैग में संबंधित मरीज की जानकारी अंकित कर परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए सौंप दी जाएगी। मृतक देह की सूचना के बारे में भी परिजनों को ही जिला प्रशासन को सूचित करना होगा।

यदि कोई व्यक्ति कोविड से ग्रसित व्यक्ति की देह नहीं लेना चाहते तो अस्पताल और स्थानीय निकाय द्वारा उनका अंतिम संस्कार कराया जा सकता है।

शर्मा ने बताया कि मृतक के अंतिम दर्शन का भी प्रोटोकॉल तय किया गया। शव को छूना, लिपटना, चूमना प्रतिबंधित रहेगा। अंतिम संस्कार में 20 व्यक्तियों से ज्यादा नहीं होने चाहिए।

अंतिम संस्कार के दौरान पीपीई किट, दस्ताने, मास्क, सामाजिक दूरी सहित अन्य प्रोटोकॉल की पूर्णतया पालना करना आवश्यक है। मृतक देह को एक जिले से दूसरे जिले में ले जाने के लिए किसी अनुमति की आवश्कता नहीं होगी।

- Advertisement -
कोरोना संक्रमित की मौत का शव मिलेगा परिजनों को, इस राज्य की सरकार ने किया फैसला 3
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

मप्र में कोरोना मरीज 1 लाख के पार

भोपाल 18 सितंबर (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या एक लाख को पार पहुंच गई है। वहीं मरने वाले मरीजों...
- Advertisement -

अनुराग ठाकुर ने संसद में नेहरू पर की टिप्पणी पर खेद जताया

नई दिल्ली, 18 सितम्बर (आईएएनएस)। केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर के विवादास्पद बयान के बाद लोकसभा की कार्यवाही शुक्रवार को चार बार स्थगित...

एनसीबी ने 6 और ड्रग पेडलर पकड़े, डेढ़ किलो मादक पदार्थ बरामद (लीड-1)

मुंबई, 18 सितम्बर (आईएएनएस)। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले से जुड़े ड्रग एंगल के सिलसिले में मुंबई में मादक पदार्थ के...

सोल्सजाएर नहीं चाहते थे कि इंग्लैंड के लिए खेलें ग्रीनवुड

मैनचेस्टर, 18 सितंबर (आईएएनएस)। मैनचेस्टर युनाइटेड के मैनजेर ओले गनर सोल्सजाएर ने इंग्लैंड को मेसन ग्रीनवुड का चयन करने पर लताड़ लगाई है और...

Related news

पिंकी चौधरी भागने वाली लड़कियों की रोल मॉडल बनी, चार लड़कियों ने ली प्रेरणा और प्रेमियों के साथ भाग गईं

बाड़मेर/टोंक। पिछले महीने बाड़मेर के समदड़ी पंचायत समिति की प्रधान पिंकी चौधरी के घर से भागने और आपने प्रेमी अशोक चौधरी के...

पिंकी प्रधान आशिक की तीसरी पत्नी बनने से पहले एक साल लिव इन रिलेशनशिप में रही!

बाड़मेर। 'पिंकी प्रधान' उर्फ समदड़ी पंचायत समिति प्रधान पिंकी चौधरी अपने आशिक अशोक चौधरी की तीसरी पत्नी बनने से पहले एक साल...

बाड़मेर: लड़की भगा ले गया शिक्षक, मिलते ही घरवालों ने किया ऐसा हाल

बाड़मेर। राजस्थान के सीमावर्ती जिले बाड़मेर में एक स्कूल के अध्यापक पर जानलेवा हमले और नाक व दोनों कान काटने की घटना सामने...

भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख में लंबे समय के लिए जरूर सामग्री स्टॉक की

नई दिल्ली, 15 सितंबर (आईएएनएस)। पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीन के बीच गतिरोध बना हुआ है। इस तनावपूर्ण...
- Advertisement -