29 C
Jaipur
शनिवार, सितम्बर 19, 2020

वीर तेजाजी, जिनके नाम से बना ‘तेजो महालय’, जिसे ‘ताजमहल’ के नाम से जाना जाता है? जानिए तेजाजी की वंशावली समेत पूरी वीर कथा

- Advertisement -
- Advertisement -

मोहित चौधरी। राजस्थान के लोकदेवता वीर तेजाजी (Veer Tejaji) के निर्वाण दिवस भाद्रपद शुक्ल दशमी को प्रतिवर्ष तेजादशमी (Teja Dashmi) के रूप में मनाया जाता है। तेजाजी जाट (Jaat) के घर पैदा हुए पर सभी जातिया उनका सम्मान करती है।

प्रचलित कथा के अनुसार प्राचीन समय में तेजाजी का जन्म विक्रम संवत 1130 माघ सुदी चौदस (गुरुवार 29 जनवरी 1074, अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार) के दिन खरनाल में हुआ था। उनके पिता राजस्थान में नागौर जिले के खरनाल के प्रमुख कुंवर ताहड़ जी थे। उनकी माता का नाम राम कंवरी था।

तेजाजी का जन्म धौलिया गौत्र के जाट परिवार में हुआ। धैालिया शासकों की वंशावली इस प्रकार है:-

1.महारावल 2.भौमसेन 3.पीलपंजर 4.सारंगदेव 5.शक्तिपाल 6.रायपाल 7.धवलपाल 8.नयनपाल 9.घर्षणपाल 10.तक्कपाल 11.मूलसेन 12.रतनसेन 13.शुण्डल 14.कुण्डल 15.पिप्पल 16.उदयराज 17.नरपाल 18.कामराज 19.बोहितराव 20.ताहड़देव 21.तेजाजी

तेजाजी के बुजुर्ग उदयराज ने खरनाल पर कब्जा कर अपनी राजधानी बनाया। खरनाल परगने में 24 गांव थे। 

बचपन में राजकुमारी पेमल से हुआ था वीर तेजाजी का विवाह

तेजाजी जाट का विवाह पेमल से हुआ था, जो झाँझर गोत्र के रायमल जाट की पुत्री थी। रायमल जाट गाँव पनेर के प्रमुख थे। पेमल का जन्म बुद्ध पूर्णिमा विक्रम स॰ 1131 (1074 ई॰) को हुआ था।

पेमल के साथ तेजाजी का विवाह पुष्कर में 1074 ई॰ में हुआ था जब तेजा 9 महीने के थे और पेमल 6 महीने की थी।

विवाह पुष्कर पूर्णिमा के दिन पुष्कर घाट पर हुआ। पेमल के मामा का नाम खाजू काला था, जो तेजाजी के परिवार से दुश्मनी रखता था और इस रिश्ते के पक्ष में नहीं था। खाजू काला और ताहड़ देव के बीच विवाद पैदा हो गया।

खाजा काला इतना क्रूर हो गया कि उसने उसे मारने के लिए ताहड़ देव पर हमला कर दिया। अपनी और अपने परिवार की रक्षा के लिए ताहड़ देव को तलवार से खाजू काला को मारना पड़ा। इस कारण से पेमल की माँ ने उसे ससुराल नहीं भेजा था।

वीर तेजाजी की भाभी के ताने से तेजाजी को आया गुस्सा चले ससुराल

एक बार तेजाजी को उनकी भाभी ने तानों के रूप में यह बात उनसे कह दी तब तानो से त्रस्त होकर अपनी पत्नी पेमल को लेने के लिए घोड़ी ‘लीलण‘ पर सवार होकर अपने ससुराल पनेर गए। वहाँ किसी अज्ञानता के कारण ससुराल पक्ष से उनकी अवज्ञा हो गई।

नाराज तेजाजी वहाँ से वापस लौटने लगे तब पेमल से उनकी प्रथम भेंट उसकी सहेली लाछा गूजरी के यहाँ हुई। उसी रात लाछा गूजरी की गाएं मेर के मीणा चुरा ले गए।

तेजा दशमी की कथा: जानिए कैसे वीर तेजाजी जाट ने पूरा किया सांप को दिया वचन ? 1

उस दिन भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि थी। तेजा को पता चलता है कि मेणा नामक डाकू अपने साथियों के साथ सारी गायों को लूटकर ले गया है।

लाछा की प्रार्थना पर वचनबद्ध होकर तेजाजी अपने साथी के साथ जंगल में मेणा डाकू से गायों को छुड़ाने के लिए जाते हैं।

गायों को डाकुओ से छुड़ाने जाते तेजा ने दिया सांप को वचन

रास्ते में तेजाजी को एक साँप आग में जलता हुआ मिला तो उन्होंने उस साँप को बचा लिया, किन्तु वह साँप जोड़े के बिछुड़ जाने के कारण अत्यधिक क्रोधित हुआ और उन्हें डसने लगा तब उन्होंने साँप को लौटते समय डस लेने का वचन दिया और ओर आगे बढ़े।

तेजाजी उस सांप को वचन देते हैं “गायों को छुड़ाने के बाद मैं वापस यहीं आऊंगा, तब मुझे डंस लेना।” ये सुनकर सांप ने रास्ता छोड़ दिया।

तेजाजी डाकू से गायों को आजाद करवा लेते हैं। डाकूओं से हुए युद्ध की वजह से वे लहुलुहान हो जाते हैं और ऐसी ही अवस्था में सांप के पास जाते हैं।

तेजा को घायल अवस्था में देखकर नाग कहता है कि तुम्हारा पूरा शरीर खून से अपवित्र हो गया है। मैं डंक कहां मारुं? तब तेजाजी उसे अपनी जीभ पर काटने के लिए कहते हैं।

तेजाजी की वचनबद्धता को देखकर नागदेव उन्हें आशीर्वाद देते हैं कि जो व्यक्ति सर्पदंश से पीड़ित है, वह तुम्हारे नाम का धागा बांधेगा, उस पर जहर का असर नहीं होगा। उसके बाद नाग तेजाजी की जीभ पर डंक मार देता है।

किशनगढ़ के पास सुरसरा में सर्पदंश से उनकी मृत्यु भाद्रपद शुक्ल 10 संवत 1160 (28 अगस्त 1103) को हो गई तथा पेमल भी उनके साथ सती हो गई। उस साँप ने उनकी वचनबद्धता से प्रसन्न हो कर उन्हें वरदान दिया।

तेजाजी के साथ रानी पेमल, घोड़ी “लीलण” और नाग देवता की होती है पूजा

तेजा दशमी की कथा: जानिए कैसे वीर तेजाजी जाट ने पूरा किया सांप को दिया वचन ? 2

इसी वरदान के कारण तेजाजी भी साँपों के देवता के रूप में पूज्य हुए। गाँव-गाँव में तेजाजी के देवरे या थान में उनकी तलवारधारी अश्वारोही मूर्ति के साथ नाग देवता की मूर्ति भी होती है।

इसके बाद से हर साल भाद्रपद शुक्ल दशमी को तेजाजी के मंदिरों में श्रृद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। जिन लोगों ने सर्पदंश से बचने के लिए तेजाजी के नाम का धागा बांधा होता है, वे मंदिर में पहुंचकर धागा खोलते है।

तेजाजी के भारत में अनेक मंदिर हैं। तेजाजी का मुख्य मंदिर खरनाल में हैं। तेजाजी के मंदिर राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, गुजरात तथा हरयाणा में हैं।

प्रसिद्ध इतिहासकार श्री पी.एन. ओक का दावा है कि ताजमहल शिव मंदिर है, जिसका असली नाम तेजो महालय है। आगरा मुख्यतः जाटों की नगरी है। जाट लोग भगवान शिव को तेजाजी के नाम से जानते हैं। 

- Advertisement -
वीर तेजाजी, जिनके नाम से बना 'तेजो महालय', जिसे 'ताजमहल' के नाम से जाना जाता है? जानिए तेजाजी की वंशावली समेत पूरी वीर कथा 3
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

शहरों में लोगों को किराए पर घर देने के लिए दो मॉडल पर काम कर रही सरकार

नई दिल्ली, 18 सितंबर(आईएएनएस)। गांवों से रोजी-रोजगार के सिलसिले में पहुंचने वाले प्रवासियों को मामूली किराए पर घर देने की योजना पर अब काम...
- Advertisement -

संयुक्त राष्ट्र के 75वें सत्र में कश्मीर मुद्दे को हवा देने की कोशिश में पाकिस्तान

इस्लामाबाद, 18 सितम्बर (आईएएनएस)। संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के 75वें सत्र की सभी महत्वपूर्ण सामान्य बहस (जनरल डिबेट) 22 सितंबर से वर्चुअल (ऑनलाइन) शुरू...

बिहार के जर्दालु आम, कतरनी चावल, मगही पान, मखाना की देश-विदेश में बनेगी पहचान

नई दिल्ली, 18 सितम्बर (आईएएनएस)। बिहार के विशिष्ट कृषि व बागवानी उत्पाद जर्दालु आम, कतरनी चावल, मगही पान, मखाना अब देश-विदेश के बाजारों में...

बॉलीवुड ने शबाना आजमी को जन्मदिन की शुभकामनाएं दी

मुंबई, 18 सितम्बर (आईएएनएस)। मशहूर अभिनेत्री शबाना आजमी शुक्रवार को अपना 70वां जन्मदिन मना रही हैं। इस अवसर पर कई बॉलिवुड दिग्गजों ने राष्ट्रीय...

Related news

पिंकी चौधरी भागने वाली लड़कियों की रोल मॉडल बनी, चार लड़कियों ने ली प्रेरणा और प्रेमियों के साथ भाग गईं

बाड़मेर/टोंक। पिछले महीने बाड़मेर के समदड़ी पंचायत समिति की प्रधान पिंकी चौधरी के घर से भागने और आपने प्रेमी अशोक चौधरी के...

पिंकी प्रधान आशिक की तीसरी पत्नी बनने से पहले एक साल लिव इन रिलेशनशिप में रही!

बाड़मेर। 'पिंकी प्रधान' उर्फ समदड़ी पंचायत समिति प्रधान पिंकी चौधरी अपने आशिक अशोक चौधरी की तीसरी पत्नी बनने से पहले एक साल...

बाड़मेर: लड़की भगा ले गया शिक्षक, मिलते ही घरवालों ने किया ऐसा हाल

बाड़मेर। राजस्थान के सीमावर्ती जिले बाड़मेर में एक स्कूल के अध्यापक पर जानलेवा हमले और नाक व दोनों कान काटने की घटना सामने...

भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख में लंबे समय के लिए जरूर सामग्री स्टॉक की

नई दिल्ली, 15 सितंबर (आईएएनएस)। पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीन के बीच गतिरोध बना हुआ है। इस तनावपूर्ण...
- Advertisement -