31 C
Jaipur
शनिवार, अगस्त 8, 2020

राजस्थान की सियासी वेब सीरीज में अंतिम एपिसोड का रोमांच चरम पर

- Advertisement -
- Advertisement -

विनोद पाठक
यंग बनाम ओल्ड के बीच टसल से राजस्थान में कांग्रेस की सांसें अटक गई हैं। प्रदेश में जो कुछ हो रहा है, उसकी वेब सीरीज दिसंबर 2018 में लिख दी गई थी।

बस फाइनल एपिसोड अभी रिलीज हुआ है। जब 2018 की सर्दियों में कांग्रेस प्रदेश की सत्ता में आई थी, तब जीत का श्रेय पीसीसी चीफ सचिन पायलट के सिर बंधा था, लेकिन दस जनपद के पुराने वफादार अशोक गहलोत को कुर्सी मिल गई।

कांग्रेस सूत्रों ने तब कहा था कि गहलोत ने यह कहते हुए मुख्यमंत्री पद पर दावा ठोका है कि वो लोकसभा चुनाव में पार्टी को ज्यादा सीटें दिला सकते हैं।

केंद्र की कुर्सी की आस में बैठे राहुल गांधी ने इसे स्वीकार कर लिया। सचिन को समय आने पर बड़ा पद देने का आश्वासन देकर शांत करे रखा।

सचिन पीसीसी चीफ बने रहे और उन्हें उप मुख्यमंत्री का लॉलीपॉप थमा दिया गया। मुख्यमंत्री न बनने की टिस पहले से सचिन के मन को कचोट रही थी।

ऊपर से गहलोत अंदर ही अंदर उन्हें निपटाने में लगे रहे। मई 2019 में लोकसभा चुनाव में भारी हार के बावजूद कांग्रेस आलाकामन ने प्रदेश में नेतृत्व परिवर्तन से आंखें मूदें रखीं।

खुद के बेटे की हार के बावजूद गहलोत कमजोर होने के बावजूद मजबूत होते चले गए।

सचिन अपनी ही सरकार और पार्टी में बेगाने हो गए। गृह और वित्त जैसे विभाग गहलोत ने स्वयं अपने पास रखे हुए हैं।

बैर इतना अधिक था कि दोनों नेता बामुश्किल मंच साझा करते हुए दिखते। धीरे-धीरे अविश्वास की खाई बढ़ी चली गई।

जब राज्य का पिछला बजट मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पढ़ रहे थे, तब पायलट मेज थपथपाने की औपचारिकताएं पूरी करते देखे गए थे।

बजट के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में वो नहीं आए थे। शायद सचिन के अंदर लावा उबल रहा था। गहलोत की व्यूह रचना भी बढ़ती जा रही थी।

जहां आलाकमान सचिन की नहीं सुन रहा था, वहीं गहलोत हर बार माइलेज लेते चले आ रहे थे। हताशा- निराशा ने सचिन को बागी बनने पर मजबूर किया।

राजनीति की चतुर चालों में माहिर अशोक गहलोत ने राज्यसभा चुनाव से पहले सचिन को ठीकाने लगाने का पहला बड़ा दांव खेला। स्क्रिप्ट लिखी कि विधायकों की खरीद-फरोख्त हो रही है।

नाम वो भाजपा का ले रहे थे, लेकिन निशाने पर सचिन ही थे। पिता राजेश पायलट की पुण्यतिथि पर कहीं सचिन समर्थक विधायकों के साथ शक्ति प्रदर्शन न कर दें, गहलोत ने विधायकों को घर बुलाकर बाड़ेबंदी में भेज दिया।

मीडिया में प्रचारित हुआ कि दौसा से तीन दर्जन विधायक मानेसर जाने वाले थे। राज्यसभा चुनाव तो किसी तरह शांति से निकल गया, लेकिन गहलोत पीछे हटने को तैयार नहीं थे।

विधायकों की खरीद-फरोख्त की जांच जिस एसओजी को दी गई थी, वो तीन दिन पहले एकाएक सक्रिय हुई। गहलोत मीडिया के आगे आए और फिर भाजपा पर निशाना साधा, लेकिन इस बार भी टारगेट पर सचिन पायलट थे।

सचिन को एसओजी ने नोटिस भेज दिया। वो पूछताछ करना चाहती है। गृह विभाग चूंकि मुख्यमंत्री के पास स्वयं है तो डेढ़ साल से सचिन के अंदर उबल रहा लावा फूट पड़ा।

बौखलाए सचिन अपने समर्थक विधायकों को लेकर उड़ चले।
राजस्थान में राजनीतिक भूचाल आ गया। सचिन और कुछ विधायकों के गायब रहने पर गहलोत कैंप सक्रिय हुआ।

उन्हें इससे सुनहरा मौका नहीं मिल सकता था। मुख्यमंत्री ने अपने घर पर विधायकों की हाजिरी लगाकर शक्ति प्रदर्शन शुरू कर दिया। दिल्ली के कांग्रेसी नेता भी सक्रिय हुए। सब कुछ गहलोत की लिखी स्क्रिप्ट के अनुसार चल रहा है।

जयपुर में गहलोत कैंप बहुमत का दावा कर रहा है तो दिल्ली से सचिन कैंप उस दावे को खारिज कर रहा है। सांप-सीढ़ी के खेल में सचिन के तेवर भी सख्त हैं।

हालांकि, आलाकमान अब समझौते के मूड में है। उसे बड़े राज्य की सत्ता जाने का भय सता रहा है। सचिन के साथ बैकडोर बातचीत जारी है। लेकिन बात अभी बनती नहीं दिख रही।

अविश्वास की खाई को शायद अब पाटा नहीं जा सकता। कांग्रेस की स्थिति आगे कुआं-पीछे खाई वाली हो गई है। ओल्ड गार्ड और यंग लीडर के बीच किसी एक का तो बलि चढ़ना निश्चित है।

यदि पायलट कांग्रेस की कॉकपिट से बाहर होते हैं तो पार्टी को भारी क्षति होगी। यदि पायलट अपनी शर्तों पर कांग्रेस के जहाज में बने रहते हैं तो गहलोत की इमेज गिरेगी।

वेब सीरीज के अंतिम एपिसोड का रोमांच अब चरम पर है और अगले 72 घंटे पार्टी और सरकार, दोनों के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं।

- Advertisement -
राजस्थान की सियासी वेब सीरीज में अंतिम एपिसोड का रोमांच चरम पर 3
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

एयर इंडिया हादसे में 18 की मौत, विशेषज्ञों ने कहा, फिसलन भरा रनवे हो सकता है दुर्घटना का कारण

चेन्नई, 8 अगस्त (आईएएनएस)। एयर इंडिया एक्सप्रेस विमान हादसे में अबतक 18 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं विमान विशेषज्ञों ने शनिवार...
- Advertisement -

बिहार : सुशांत मामले की जांच करने मुंबई गए आईपीएस अधिकारी देर रात पटना लौटे

पटना, 8 अगस्त (आईएएनएस)। सुशांत आत्महत्या मामले की जांच करने मुंबई गए पटना के नगर पुलिस उपाधीक्षक आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी शुक्रवार की देर...

बेरुत विस्फोट मामले में बंदरगाह के 3 अधिकारी गिरफ्तार

बेरुत, 8 अगस्त (आईएएनएस)। बेरुत में बंदरगाह के तीन अधिकारियों को गिरफ्तार किया गया है जहां हाल ही में हुए घातक विस्फोट से 150...

डीजीसीए, एयर इंडिया और एयर इंडिया एक्सप्रेस के अधिकारी कोझिकोड पहुंचे

चेन्नई, अगस्त 8 (आईएएनएस)। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए), विमान दुर्घटना जांच ब्यूरो (एएआईबी), एयर इंडिया और एयर इंडिया एक्सप्रेस के शीर्ष अधिकारी शनिवार को...

Related news

NRC (National Register of citizen) और CAB (Citizenship Ammendment Bill) के बाद क्या हैं PCB और UCC…?

New delhiकेंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा इसी सप्ताह नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Ammendment Bill), यानी CAB पास करवाने के बाद गुरुवार...

आत्म-निर्भर भारत पर निबंध लिखेंगे देशभर के छात्र

नई दिल्ली, 6 अगस्त (आईएएनएस)। स्वतंत्रता दिवस समारोह के उपलक्ष्य में माईगव के साथ साझेदारी में शिक्षा मंत्रालय देश भर में स्कूली छात्रों के...

जय दुर्गा सीनियर सेकेंडरी स्कूल निदेशक ने की 4 टॉपर छात्र- छात्राओं को एक्टिवा देने की घोषणा

जयपुर। राजधानी के शंकर नगर एरिया में स्थित जय दुर्गा सीनियर सेकेंडरी स्कूल में बोर्ड परीक्षा में टॉप करने वाले बच्चो को...

सचिन पायलट की इस शर्त पर हो सकती है कांग्रेस में वापसी

राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रहे सचिन पायलट की कांग्रेस में वापसी के लिए एक बार फिर से प्रयास...
- Advertisement -