33 C
Jaipur
रविवार, जुलाई 5, 2020

एक साल में धारा 370, लदाख का गठन, राम मंदिर निर्माण और सीएए विरोध के बावजूद कांग्रेस क्यों नहीं दे पाई मोदी का विकल्प?

- Advertisement -
- Advertisement -

नेशनल दुनिया, नई दिल्ली।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूसरी सरकार को 1 साल पूरा हो चुका है। इस एक साल के दौरान केंद्र सरकार के द्वारा धारा 370, लद्दाख राज्य का गठन, राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ करना और नागरिकता संशोधन कानून लागू किए जाने के बाद उपजे तमाम विरोध बावजूद कांग्रेस पार्टी नरेंद्र मोदी का कोई विकल्प नहीं खोज पाई है।

एक साल में धारा 370, लदाख का गठन, राम मंदिर निर्माण और सीएए विरोध के बावजूद कांग्रेस क्यों नहीं दे पाई मोदी का विकल्प? 1

सबसे पहले धारा 370 और 35a का सफाया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूसरी सरकार के उल्लेखनीय कार्यों की बात की जाए तो सरकार गठन के तुरंत बाद मोदी सरकार ने सबसे पहले जम्मू कश्मीर राज्य का भी गठन किया।

यहां से नासूर बन चुकी धारा 370 और 35a का खात्मा किया। साथ ही लद्दाख के रूप में अलग से केंद्र शासित प्रदेश बनाया।

इस मसले को लेकर पाकिस्तान तमाम तरह के अंतरराष्ट्रीय मंच पर सहायता के लिए गया, लेकिन उसको कोई सफलता नहीं मिली।

जम्मू कश्मीर को अलग से केंद्र शासित प्रदेश बनाया। इसको लेकर छुटपुट विरोध हुआ, लेकिन आखिरकार केंद्र सरकार अपने निर्णय पर अड़ी रही और उसको सफलता मिली है।

एक साल में धारा 370, लदाख का गठन, राम मंदिर निर्माण और सीएए विरोध के बावजूद कांग्रेस क्यों नहीं दे पाई मोदी का विकल्प? 2

इस मामले को लेकर जम्मू-कश्मीर के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूक अब्दुल्लाह, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती पर भी केस दर्ज हुए और उनको नजरबंद किया गया।

जिनमें से फारूक अब्दुल्ला और ऊपर उमर अब्दुल्ला को रिहा कर दिया गया है। हालांकि, महबूबा मुफ्ती अभी भी नजरबंद हैं। अब जम्मू कश्मीर और लद्दाख भी अन्य केंद्र शासित प्रदेशों के समान हैं। यहां पर कोई विशेष अधिकार नहीं हैं।

राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ, 541 साल पुरानी लड़ाई समाप्त

आजादी के भी कई सदियों पहले से शुरू अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर केंद्र की मोदी सरकार ने पहल की और जिस मुद्दे को लेकर आरएसएस और भाजपा बरसों से लड़ाई लड़ रही थी, उसका मोदी की दूसरी सरकार में अंत हो गया।

एक साल में धारा 370, लदाख का गठन, राम मंदिर निर्माण और सीएए विरोध के बावजूद कांग्रेस क्यों नहीं दे पाई मोदी का विकल्प? 3

अयोध्या में राम मंदिर की जगह बाबर के द्वारा जो मस्जिद बनवाई गई थी, उसका 1992 में विध्वंस किया गया था। यहां पर अब पूरी जमीन राम मंदिर के लिए दे दी गई है। एक ट्रस्ट का गठन करके उस पर मंदिर का निर्माण कार्य भी शुरू हो चुका है।

पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में रहने वाले हिंदुओं के लिए नागरिकता संशोधन कानून बनाया

नरेंद्र मोदी की दूसरी सरकार में गृह मंत्री बने अमित शाह के द्वारा 6 महीने के भीतर तीसरा बड़ा कदम उठाते हुए पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में रहने वाले हिंदू, सिख, ईसाई, बुद्ध, जैन और पारसी धर्म के लिए नागरिकता संशोधन कानून बनाया।

इस कानून के खिलाफ देश के मुसलमानों, वामपंथी संगठनों और कांग्रेस के द्वारा विरोध किया गया। वामपंथियों के द्वारा मुसलमानों को साथ लेकर देशभर में करीब 400 जगह पर धरने दिए गए।

एक साल में धारा 370, लदाख का गठन, राम मंदिर निर्माण और सीएए विरोध के बावजूद कांग्रेस क्यों नहीं दे पाई मोदी का विकल्प? 4

नई दिल्ली में शाहीन बाग बनाया गया, जिसको नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ एक मॉडल बनाकर पूरे देश में और दुनिया में पेश किया गया। जिसके चलते केंद्र सरकार को कई बार परेशानी का सामना करना पड़ा, लेकिन सरकार झुकी नहीं और आखिरकार वामपंथियों के द्वारा चलाए गए इस प्रोपेगेंडा में कोई सफलता हासिल नहीं हुई।

आजादी के बाद पहले गृह मंत्री सरदार बल्लभ भाई पटेल के बाद इस तरह से कड़े फैसले लेने के कारण गृह मंत्री अमित शाह को लौह पुरुष की उपाधि दी गई।

एक साल में धारा 370, लदाख का गठन, राम मंदिर निर्माण और सीएए विरोध के बावजूद कांग्रेस क्यों नहीं दे पाई मोदी का विकल्प? 5

संसद के भीतर जिस तरह से कांग्रेस समेत तमाम दलों को गृह मंत्री अमित शाह के द्वारा करारा जवाब दिया गया, और बिंदु बार रिप्लाई किया गया, उसको देख कर देश दुनिया की तमाम बुद्धिजीवी लोगों ने समझ लिया कि गृह मंत्री के पास पर्याप्त तथ्य और तर्क हैं।

जम्मू कश्मीर राज्य के विघटन और जम्मू-कश्मीर व लद्दाख के रूप में 2 केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाने के दौरान जिस तरह से संसद में गृहमंत्री अमित शाह ने मजबूती के साथ पीओके और गिलगित बालटिस्तान को भारत का अभिन्न अंग बताया गया, उसके बाद अंतरराष्ट्रीय समुदाय में भारत की मजबूत छवि पेश हुई और पाकिस्तान में हड़कंप मच गया।

कोरोनावायरस की वैश्विक महामारी में केंद्र सरकार की छवि और निखरी

मार्च के महीने में शुरू हुए वैश्विक आपदा कोरोनावायरस की महामारी के बाद जिस तरह से नरेंद्र मोदी सरकार ने मजबूती से फैसला करते हुए पूरे देश में 2 महीने से अधिक समय तक तालाबंदी की उसके कारण मोदी सरकार की मजबूत छवि निखरकर सामने आई है।

एक साल में धारा 370, लदाख का गठन, राम मंदिर निर्माण और सीएए विरोध के बावजूद कांग्रेस क्यों नहीं दे पाई मोदी का विकल्प? 6

21 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज का विपक्ष के पास नहीं मिला कोई जवाब

कोरोना वायरस की वैश्विक महामारी के दौरान 2 महीने तक पूरा देश बंद रहा इस दौरान करोड़ों श्रमिक अपने-अपने राज्य पहुंचने के लिए परेशान हो गए। केंद्र सरकार के द्वारा श्रमिकों, किसानों, गरीबों, छोटे उद्योगों समेत देश के प्रत्येक नागरिक तक राहत पहुंचाने के लिए करीब 21 लाख करोड़ पर का राहत पैकेज घोषित किया।

- Advertisement -
एक साल में धारा 370, लदाख का गठन, राम मंदिर निर्माण और सीएए विरोध के बावजूद कांग्रेस क्यों नहीं दे पाई मोदी का विकल्प? 9
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

लेवरकुसेन को हराकर बायर्न म्यूनिख ने जीता जर्मन कप

बर्लिन, 5 जुलाई (आईएएनएस)। जर्मन क्लब के मौजूदा चैंपियन बायर्न म्यूनिख ने बेयर लेवरकुसेन को हराकर अपने खिताब का सफलतापूर्वक बचाव कर लिया। बायर्न...
- Advertisement -

देश में कोरोना मामले 6.7 लाख के पार

नई दिल्ली, 5 जुलाई (आईएएनएस)। देश ने कोरोना के एक-दिवसीय मामलों का रविवार को नया रिकॉर्ड दर्ज किया। रविवार को 24,850 नए मामले सामने...

48 घंटे के बाद भी फरार विकास दुबे नहीं लगा पुलिस के हाथ (आईएएनएस स्पेशल)

लखनऊ, 5 जुलाई (आईएएनएस)। कानपुर में घात लगाकर आठ पुलिस कर्मियों की हत्या के बाद गैंगस्टर विकास दुबे को लापता हुए 48 घंटे से...

मप्र में प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति पर कांग्रेस ने उठाए सवाल

भोपाल 5 जुलाई (आईएएनएस)। रामेश्वर शर्मा को मध्य प्रदेश विधानसभा का प्रोटेम स्पीकर बनाया गया है। शर्मा की नियुक्ति पर कांग्रेस ने सवाल उठाए...

Related news

3 माह से वेतन नहीं, सैंकड़ों कर्मचारियों की कोरोनाकाल में भूखे मरने की नौबत आई

-वेतन नहीं मिला तो कर्मचारी पहुंचे न्यायालय की शरणजयपुर। कोरोना संक्रमण काल के दौरान भी काम कर रहे...

थानाधिकारी सुसाइड मामले में आरोपित की गईं राजस्थान के एक विधायक को मुख्यमंत्री से भी बड़ी सुरक्षा प्रदान की गई है

जयपुर पिछले दिनों चूरू में सादुलपुर थाना अधिकारी विष्णु दत्त विश्नोई के सुसाइड मामले में विपक्षियों द्वारा जिस विधायक...

वसुंधरा से दूरियां, डॉ. सतीश पूनियां से नजदीकियां, आखिर क्या मंत्र है राठौड़ का?

जयपुर।राजस्थान विधानसभा में उप नेता प्रतिपक्ष और पिछली वसुंधरा राजे सरकार में पंचायती राज मंत्री रहे चूरू के विधायक राजेंद्र सिंह राठौड़...

रचनात्मक सहयोग कैसे किया जाता है, यह राजस्थान भाजपा टीम ने साबित किया है: PM नरेन्द्र मोदी

-जनता के सुख-दुःख में कंधे से कंधा मिलाकर कैसे खड़ा रहा जाता है, यह राजस्थान भाजपा ने कर दिखाया है: पीएम मोदी-प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी...
- Advertisement -