23 C
Jaipur
शुक्रवार, जनवरी 22, 2021

‘जननी’ की मौत पर भी नहीं डिगा चिकित्सा सैनिक ‘राम’ का हौसला, मां का अंतिम संस्कार छोड़कर मरीजों की सेवा चुनी

- Advertisement -
- Advertisement -

नेशनल दुनिया डेस्क

करीब 33 साल पहले बने धारावाहिक रामायण का एक बार फिर से दूरदर्शन पर प्रसारण हो रहा है। पुराने लोग एक बार फिर से इसको देख रहे हैं और मर्यादा पुरुषोत्तम राम के द्वारा अपने पिता के वचनों को निभाने के लिए 14 वर्ष का वनवास भोगने के कठिन कार्य को देख रहे हैं। जिनको पहले रामायण देखने का अवसर नहीं मिला था, वो भी राम के कर्तव्य पथ से सीखने का प्रयास कर रहे हैं।

- Advertisement -'जननी' की मौत पर भी नहीं डिगा चिकित्सा सैनिक 'राम' का हौसला, मां का अंतिम संस्कार छोड़कर मरीजों की सेवा चुनी 3

जिस तरह से राष्ट्र की सेवा करने के लिए हमारी सेनाओं मैं फौजी कर्तव्य पथ पर डटे रहते हैं। उनके घर परिवार में होने वाली अनहोनी घटनाओं के वक्त भी कई बार उनको पहुंचने का अवसर नहीं मिलता है।

ठीक ऐसे ही आज कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ी जा रही इस वैश्विक जंग में कई चिकित्सा सैनिक ऐसे हैं, जिनका हौसला उनके परिवार में हो रही अनहोनी के बावजूद भी नहीं डिग रहा है।

जब किसी के परिवार में कोई दुखद घटना होती है और व्यक्ति अपने सबसे अजीज को खो देता है, तब उसपर किसी भी तरह के ज्ञान असर नहीं होता है, व्यक्ति सारे बंधन तोड़ कर पहले परिजनों के पास पहुंचता है।

किंतु ऐसे सैनिक, जो कोरोनावायरस की वैश्विक महामारी से लोगों की जान बचाने में जुटे हुए हैं, उनके लिए कोई भी विपरीत परिस्थिति कर्तव्य पथ से डिगने की स्थिति दिखाई नहीं देती है।

देश के कई अस्पतालों में डॉक्टर, नर्सिंगकर्मी, वार्ड बॉय, लैब टेक्नीशियन और दूसरे सभी स्टाफ कई दिनों से अपने घर नहीं गए हैं, अपने परिजनों से नहीं मिले हैं, लगातार 24 घंटे रोगियों की सेवा करने में जुटे हुए हैं।

कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ने वाला सवाई मानसिंह चिकित्सालय का ऐसा ही एक बहादुर चिकित्सा सैनिक है राममूर्ति मीणा। करौली के रानोली गांव का रहने वाले राममूर्ति जयपुर स्थित सवाई मानसिंह चिकित्सालय के आइसोलेशन वार्ड में पिछले 1 साल से कार्यरत हैं।

सवाई मानसिंह चिकित्सालय के आइसोलेशन वार्ड में आईसीयू के नर्सिंग इंचार्ज राममूर्ति मीणा की मां का निधन 30 मार्च को हो गया, बावजूद इसके उन्होंने अपने ड्यूटी नहीं छोड़ी। राममूर्ति ने एक सैनिक की भांति 24 घंटे अस्पताल में मरीजों की सेवा करने में बिता दिए।

ऐसा नहीं है कि राममूर्ति अपनी मां के निधन पर भी उनके अंतिम संस्कार में जाने के इच्छुक नहीं थे। वह बताते हैं उनको इस बात का अफसोस हमेशा रहेगा कि मां के अंतिम संस्कार में नहीं जा पाया, लेकिन कोरोनावायरस से पॉजिटिव मरीजों की सेवा करना ज्यादा महत्वपूर्ण है, जबकि पूरा देश इस महामारी से लड़ रहा है।”

राममूर्ति कहते हैं कि उनकी पत्नी बच्चे सभी गांव में हैं। उनके भाइयों ने कहा था की कोरोनावायरस से पीड़ित मरीजों की सेवा करना बेहद जरूरी है, गांव में मां के निधन पर अंतिम क्रिया से लेकर सभी कार्य को संभाल लेंगे, सबसे पहले मरीजों की सेवा जरूरी है। राममूर्ति बताते हैं कि परिवार के इसी हौसले के कारण उनकी हिम्मत बढ़ गई। अब राममूर्ति खुद 14 दिन के क्वॉरेंटाइन में हैं।

- Advertisement -
'जननी' की मौत पर भी नहीं डिगा चिकित्सा सैनिक 'राम' का हौसला, मां का अंतिम संस्कार छोड़कर मरीजों की सेवा चुनी 4
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

पिंकी चौधरी की तरह लौट आएगी मनीषा डूडी?

बीकानेर/जयपुर। जुलाई माह में बाड़मेर के समदड़ी पंचायत से प्रधान रहीं पिंकी चौधरी जब अपने प्रेमी अशोक चौधरी के साथ भाग गई थीं, तब...
- Advertisement -

जयपुर गौरी माहेश्वरी बनी विश्व की सबसे कम उम्र में कैलीग्राफी टीचर

-हाल ही में एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड से नवाजी गई गौरी। जयपुर। देखने में सुन्दर शब्दों को लिखने की कला को कैलीग्राफी कहा जाता...

ईशान कोण का शमशान लील रहा है विधायकों की जान, विधानसभा में भूत है?

जयपुर। बीते 20 बरस से राजस्थान विधानसभा में ऐसा अवसर केवल दिसंबर 2018 से लेकर अक्टूबर 2020 तक ही आया है, जब सभी 200...

पत्रकार भगवान चौधरी पर हिस्ट्रीशीटर ने किया जानलेवा हमला, पत्रकारों में गहरा रोष

जयपुर। राजधानी जयपुर से प्रकाशित होने वाले प्रमुख अखबार पंजाब केसरी की रिपोर्टर भगवान चौधरी पर कार्यालय जाते वक्त सुबह करीब 11 बजे स्थानीय...

Related news

मनीषा डूडी के साथ क्या लव जिहाद हुआ है?

बीकानेर/जयपुर। बीकानेर जिले की कोलायत तहसील के बांगड़सर गांव की 18 वर्ष की मनीषा डूडी ने पिछले दिनों कोलायत के एक गांव के रहने...

पिंकी चौधरी की तरह लौट आएगी मनीषा डूडी?

बीकानेर/जयपुर। जुलाई माह में बाड़मेर के समदड़ी पंचायत से प्रधान रहीं पिंकी चौधरी जब अपने प्रेमी अशोक चौधरी के साथ भाग गई थीं, तब...

ईशान कोण का शमशान लील रहा है विधायकों की जान, विधानसभा में भूत है?

जयपुर। बीते 20 बरस से राजस्थान विधानसभा में ऐसा अवसर केवल दिसंबर 2018 से लेकर अक्टूबर 2020 तक ही आया है, जब सभी 200...

जाट-राजपूत एक हुए तो उबला बीकानेर, महिपाल सिंह मकराना ने भरी हुंकार

बीकानेर। बीकाजी की नगरी, बीकानेर में रविवार को उबाल मारती हिंदुओं की युवा सेना ने पुलिस की हालत पतली कर दी। करणी सेना के...
- Advertisement -