24 साल बाद दीया कुमारी और नरेंद्र का तलाक, तीनों बच्चे दीया का पास रहेंगे

-जयपुर के पूर्व राजपरिवार की इकलौती बेटी दीया कुमारी का उनके पति से 24 साल बाद तलाक

जयपुर।

जयपुर के पूर्व राजघराने की सदस्य और पूर्व विधायक दिया कुमारी का उनके पति नरेंद्र सिंह से 24 साल बाद तलाक हो गया है। यह तलाक दोनों की आपसी सहमति से फैमिली कोर्ट संख्या 1 में हुआ है, यहां पर पीठासीन अधिकारी झूमरमल डिक्री पारित की।

आपको बता दें कि तलाक दोनों की सहमति से हुआ है। न्यायाधीश झुमरमल ने 6 माह बाद सुनवाई करने को कहा था, लेकिन दोनों की सहमति होने का हवाला देकर दीया कुमारी ने जल्द सुनवाई आग्रह किया था, जिसपर यह तलाक मंजूर हुआ है।

दीया कुमारी और नरेन्द्र सिंह 7 दिसम्बर कक कोर्ट में तलाक के लिए अर्ज़ी दाखिल की थी। लेकिन नियमानुसार झूमरमल ने राजीनामे के लिए 6 माह का समय दिया था। दोनों की काउंसलिंग भी की गई थी, मगर दोनों ने पहले से ही सबकुछ तय करने के बाद आवेदन किया था। कोर्ट से उन्होंने 21 दिसम्बर 2018 को ही सुप्रीम कोर्ट के पूर्व फैसले का हवाला देकर जल्द सुनवाई करने की अपील की थी।

आपको बता दें कि दोनों ने 14 फरवरी 1994 को विवाह किया था। दोनों ने परिवारों की आपसी सहमति के बिना यह प्रेम विवाह किया था। दीया कुमारी और नरेंद्र एक ही गोत्र के हैं, जिसके चलते यह शादी स्वीकार्य नहीं मानी जाती है। बाद में 3 साल के उपरांत 1997 को परिवारों ने भी उनको अपना लिया था।

दीया कुमारी जयपुर के पूर्व राजघराने के पूर्व महाराज भवानी सिंह और पद्मनी देवी की इकलौती बेटी हैं। दोनों के दो बेटे और एक बेटी है। गौरतलब है कि जयपुर राजघराने में कई पीढ़ियों से बेटा नहीं होता है। जिसके चलते दीया कुमारी के बेटे पद्मनाभन को करीब 3 साल पहले ही बालिग होने पर भवानी सिंह का उत्तराधिकारी बनाया गया था। दीया कुमारी ने अपनी पढ़ाई लन्दन से ही है, लेकिन उससे पहले जयपुर में पढ़ते हुए ही दोनों में प्रेम हो गया था।

यह भी पढ़ें :  गहलोत सरकार के कैबिनेट मंत्री ने माना उनके ऊपर राजनीतिक प्रतिबंध

दीया कुमारी 2013 में भाजपा के टिकट पर सवाई माधोपुर से विधायक निर्वाचित हुई थीं। दिसम्बर में हुए चुनाव के दौरान उनको टिकट नहीं मिला था। माना जा रहा है कि दीया को बीजेपी जयपुर शहर की लोकसभा सीट से चुनाव में उतार सकती है।