कॉन्स्टेबल से किसान मसीहा कैसे बने राकेश टिकैत?

जयपुर। भारतीय किसान यूनियन के संस्थापक और तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष महेंद्र सिंह टिकैत के घर पर 4 जून 1969 को जन्मे भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत 1985 में दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल के रूप में शामिल हुए। साल 1985 में ही उनकी शादी हुई। वीडियो से समझिये पूरी कहानी-

राष्ट्रव्यापी आंदोलन के वक्त जब केंद्र की सरकार के द्वारा और भारतीय किसान यूनियन के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष महेंद्र सिंह टिकेट को मनाने और किसान आंदोलन खत्म करने के लिए दबाव बनाया गया तो उन्होंने दिल्ली पुलिस की नौकरी छोड़ दी।

इसके बाद 1997 में राकेश टिकैत को भारतीय किसान यूनियन का राष्ट्रीय प्रवक्ता बनाया गया। हालांकि, 2011 में चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत के निधन के बाद राकेश टिकट के बड़े भाई और महेंद्र सिंह टिकैत के बेटे नरेश टिकैत भारतीय किसान यूनियन का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया।

किंतु व्यवहारिक तौर पर ज्यादा सुगम और किसानों के हित में फैसले लेने के लिए ज्यादा सक्षम होने की वजह से तमाम निर्णय चौधरी राकेश टिकैत ही लेते हैं। वीडियो के माध्यम से जानिए राकेश टिकट कैसे एक कॉन्स्टेबल से किसान मसीहा तक बन गए।

यह भी पढ़ें :  20 पत्रकार परिवारों को राज्य सरकार ने देगी Holly day सौगात...