Rajasthan University के छात्रों को 6.50 लाख रुपये का जीवन बीमा, देश का पहला विवि

जयपुर। राजस्थान विश्वविद्यालय के द्वारा अपने स्टूडेंट्स को दुर्घटना होने जीवन बीमा देने की अभिनव पहल की है। इसके तहत विवि वर्तमान शैक्षणिक सत्र में अपने किसी भी छात्र कि किसी दुर्घटना या आपदा में घायल होने की स्थिति में उसे 50 हजार की राशि चिकित्सकीय उपचार के लिए उपलब्ध करवाएगा।

इतना ही नहीं, अपितु दुर्घटना उपरांत उपचार या उपचार से पूर्व छात्र की मृत्यु हो जाती है तो ऐसी स्थिति में उसके परिजनों को 6 लाख, 50 हजार की राशि सहायता के रूप मे राजस्थान विश्वविद्यालय इस वर्ष प्रदान करेगा।

विवि के जनसंपर्क अधिकारी डॉ. भूपेंद्र सिंह शेखावत ने बताया कि राजस्थान विश्वविद्यालय के महाराजा, महारानी, कॉमर्स व राजस्थान कॉलेज सहित दोनों लॉ कॉलेजों एवं विश्वविद्यालय के 37 पोस्ट ग्रेजुएट डिपार्टमेंट में पढ़ने वाले कुल 28000 विद्यार्थियों को इस योजना का लाभ मिलेगा।

डॉ. शेखावत ने बताया कि पूरे भारतवर्ष में राजस्थान विश्वविद्यालय मे सर्वप्रथम लागू की गई। इस योजना के तहत अब तक विश्वविद्यालय अपने घायल व दुर्घटना में मृत छात्रों के परिजनों को एक करोड़ से अधिक की राशि उपलब्ध करवा चुका है।

उल्लेखनीय है कि यह योजना विश्वविद्यालय के पीआरओ डॉ भूपेंद्र सिंह शेखावत द्वारा अध्ययन के आधार पर लागू की गई है। उन्होंने बताया कि राज्य में तेजी से बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं व अन्य घटनाओं में अपने परिवारों के लाडले व निर्दोष युवाओं की मृत्यु एवं गंभीर रूप से घायल होने के भयावह आंकड़ों को दृष्टिगत रखते हुए अपने एक व्यापक अध्ययन के बाद यह योजना पूरे देश में पहली बार अभिनव रूप से तैयार की गई।

यह भी पढ़ें :  सायपुरा: 13 साल पहले बसाए 100 परिवारों की बस्ती हटाएगा JDA

उनके मुताबिक छात्र दुर्घटना सहायता योजना के आधार पर यह सहायता विश्वविद्यालय के पीड़ित छात्रों को उपलब्ध करवाई जा रही है।
राजस्थान विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. राजीव जैन के निर्देशन पर गुरुवार रजिस्ट्रार कजोड़ मल ने इस संबंध में यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी के साथ हुए इस सत्र के समझौते पर हस्ताक्षर किए।

डॉ. शेखावत का कहना है कि यदि किसी का कोई रिश्तेदार परिचित या अन्य जानकार, जो राजस्थान विश्वविद्यालय या ऊपर वर्णित कॉलेजों में पढ़ रहा है और यदि वह किसी दुर्घटना या संकट का शिकार होता है तो सहायता के लिए तुरंत विश्वविद्यालय के छात्र कल्याण अधिष्ठाता या विश्वविद्यालय के जनसंपर्क अधिकारी कार्यालय फोन 0141- 2708 614 या 9413343291 इसकी सूचना दें सकते हैं।