इतिहास की सबसे अकर्मण्य गहलोत सरकार है: डॉ. पूनियां

Satish Poonia BJP
Satish Poonia BJP

रामगोपाल जाट। राज्य में कांग्रेस की अशोक गहलोत की सरकार को आज दो साल पूरे हो चुके हैं। इस मौके पर सरकार जहां अपनी पीठ थपथपा रही है, वहीं भाजपा पहले भी ज्यादा हमलावर हो गई है। भाजपा अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार को विफल, अकर्मण्य और इतिहास की सबसे झूठी सरकार करार दिया है। पढ़िये भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां के प्रमुख अंश—

सवाल: राज्य की अशोक गहलोत सरकार के दो साल पूरे हो गये हैं, आप इन दो सालों को किस रूप में देखते हैं?

जवाब: सरकार हर मोर्चे पर विफल है। राज्य की राजनीति में इस तरह की अराजक, अकर्मण्य और भ्रष्ट सरकार कभी नहीं देखी। वित्तीय कुप्रबन्धन से लेकर कानून व्यवस्था चौपट होना, भ्रष्टाचार सातवें आसमान पर जाना, इस विफल सरकार ने किसानों से संपूर्ण ऋणमाफी और युवाओं से रोजगार के नाम पर वादे कर वोट हथिया लिया, लेकिन फिर उनसे वादाखिलाफी हुई, कोरोना की वैश्चिक महामारी में गहलोत सरकार ने लोगों को भगवान भरोसे छोड़ दिया, इस महामारी के प्रबन्धन में सरकार पूरी तरीके से विफल साबित हुई।

सवाल: कर्जामाफी का आप आरोप लगाते हैं, किंतु राज्य सरकार तो कहती है कि कर्जामाफी हुई है, यह कैसा असमंजश है?

जवाब: कांग्रेस के नेता राहुल गांधी ने किसानों से दिसंबर 2018 में सार्वजनिक सभाओं में कही थी, कर्जामाफी सिर्फ सहकारी बैंकों का हुआ, वह भी केवल दिखावे के तौर पर, आंकड़ों के लिए है। वास्तविकता यह है कि राष्ट्रीकृत व अन्य संस्थाओं के साथ ही साहूकारों का कर्ज ना चुका पाने के चलते किसानों को आत्महत्याएं करनी पड़ी, सरकार ने कई जगह जमीनें कुर्क कर ली। किसानों को जुर्माने के साथ पैसा चुकाना पड़ा है। किसानों ने सम्पूर्ण कर्जामाफी की आस में ही कांग्रेस को वोट दिया था, किंतु राज्य गहलोत सरकार ने किसानों से मुंह मोड लिया।

यह भी पढ़ें :  केंद्र सरकार ने राजस्थान को नरेगा के लिए 2870 करोड़ दे दिए: डॉ पूनिया

सवाल: गहलोत सरकार कहती है कि दो साल में ही कांग्रेस के घोषणा पत्र के करीब 60 फीसदी वादे पूरे कर दिए गए, इस बारे में आपका क्या कहना है?

जवाब: कांग्रेस पार्टी का जन घोषणा पत्र 2018 झूठ का सिर्फ पुलिन्दा है, वादे पूरे होने की बात साफ झूठी है, इसका जवाब जनता देती रहती है, घोषणा पत्र की नाकामी से त्रस्त प्रदेश की 2.5 करोड़ जनता ने पंचायतीराज चुनाव में कांग्रेस को करारा जवाब दे दिया है।

सवाल: गहलोत आपके दल के नेताओं पर आरोप लगाते रहते हैं कि उनकी सरकार गिराने की साजिशें चल रही हैं, आप इसका जवाब किस तरह देते हैं?

जवाब: राज्य की गहलोत सरकार का यह आरोप पूरी तरह से बेबुनियाद है, मुख्यमंत्री हमेशा की तरह शातिर तरीके से अपनी नाकामियों पर पर्दा डालने के लिए हमारे उपर आरोप लगाते हैं, हम सब जानते हैं जो भी घटनाक्रम हुआ था, वो कांग्रेस पार्टी का अपना झगड़ा था, जो अभी भी कायम है, कांग्रेस एवं गहलोत सरकार नैतिक रूप से ही कमजोर है, राज्य की मासूम जनता को इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है।

सवाल: इन बीते दो वर्ष में सरकार की सबसे बडी कमी क्या मानते हैं?

जवाब: कमियों से भरी पूरी यह सरकार विफलताओं की एक लम्बी सूची तैयार कर चुकी है, जिसका आगामी 2023 में जनता कांग्रेस से हिसाब-किताब कर लेगी।