जयपुर।

राजस्थान सरकार द्वारा कल प्रदेश के किसानों के कर्ज माफी को लेकर किए गए ऐलान पर पलटवार करते हुए राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक हनुमान बेनीवाल ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सवालों के घेरे में खड़ा किया है।

हनुमान बेनीवाल ने कहा है कि राज्य सरकार की नीयत ठीक नहीं है। उनके द्वारा प्रदेश के संपूर्ण किसानों का कर्जा माफ करने का ऐलान किया गया था, लेकिन अपने मेनिफेस्टो से बदलते हुए अशोक गहलोत सरकार ने केवल 2 लाख तक का कर्जा माफ किया है, जिसकी भी पात्रता का पता नहीं है।

खींवसर से लगातार तीसरी बार चुनकर आए विधायक हनुमान बेनीवाल ने कहा कि राजस्थान सरकार और सरकार के मुखिया अशोक गहलोत किसानों का संपूर्ण कर्जा माफ करने का ऐलान करें, नहीं तो राजस्थान बड़े पैमाने पर आंदोलन किया जाएगा और विधानसभा को ठप किया जाएगा।

उन्होंने भारतीय जनता पार्टी को भी गिरते हुए कहा कि भाजपा और कांग्रेस दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। दोनों ही किसानों के हित में काम नहीं करते हैं और हमने पूरे 5 साल तक किसानों के लिए लड़ाई लड़ी है, हुंकार भरी है। अब यदि किसानों का संपूर्ण कर्जा माफ नहीं होता है, हमारी मांगे पूरी नहीं होती है, तो हम दिल्ली में हुंकार भरेंगे।

हनुमान बेनीवाल ने कहा कि राज्य सरकार ने सहकारिता का संपूर्ण कर्जा माफ करने की बात कही है, लेकिन उसमें पात्रता का नियम लगा दिया गया है। दूसरी तरफ केसीसी वाले उन किसानों का कर्जा माफ करने की बात कही है, जो डिफॉल्टर हैं। इसलिए यह कर्जमाफी समय पर कर्ज़ा चुकाने वाले किसानों के साथ यह धोखा है।