जयपुर।

राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में किसानों की संपूर्ण कर्ज माफी के वादे के साथ सत्ता प्राप्त करने वाली कांग्रेस पार्टी अभी तक मुख्यमंत्री का उम्मीदवार तय नहीं कर पा रही है, और दूसरी तरफ इन तीनों राज्यों के किसान दिन गिन रहे हैं।

राजस्थान के ग्रामीण क्षेत्रों में और खासकर युवा किसान जो कि सोशल मीडिया से जुड़े रहते हैं, वह कांग्रेस पार्टी से जल्द से जल्द 10 दिन के अंदर किसानों का कर्जा माफ करने के लिए लगातार चर्चा कर रहे हैं।

11 दिसंबर को तीनों राज्यों में चुनाव परिणाम आने के बाद कांग्रेस पार्टी सरकार बनाने के लिए जरूरी बहुमत में आ चुकी है। छत्तीसगढ़ में तो कांग्रेस पार्टी को प्रचंड बहुमत मिला है, जबकि राजस्थान और मध्य प्रदेश में पार्टी निर्दलीय के सहारे सरकार बनाने की स्थिति में है, लेकिन तीनों राज्य में अब तक मुख्यमंत्री के उम्मीदवार घोषित नहीं हो पाए हैं।

कांग्रेस पार्टी भले अपने मुख्यमंत्री उम्मीदवार तय कर सरकार नहीं बना पा रही हो, लेकिन इन तीनों राज्यों के किसानों के साथ-साथ पूरे देश के अन्नदाता समुदाय की नजर कांग्रेस की बनने वाली सरकारों के उस निर्णय के ऊपर टिकी हुई है, जो किसानों का संपूर्ण कर्जा माफ करने का वादा कांग्रेस पार्टी कर चुकी है।

इधर, सूत्रों का दावा है कि 5 माह बाद होने वाले लोकसभा चुनाव को देखते हुए एक दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाली केंद्रीय सरकार ने एक अहम निर्णय लेते हुए देश के 25 करोड़ किसानों का 4 लाख करोड़ का माफ करने की योजना बना ली है, जिसको कभी भी अमलीजामा पहनाया जा सकता है।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।