Jaipur

इस खबर में हम आपको न केवल राज्य सरकार और राज्य पुलिस की नाकामी, कारगुजारी, लापरवाही, सियासी प्रतिद्वंद्वी, राजनीति का गिरता स्तर समेत तमाम चीजों से अवगत करवाएंगे, जिससे राज्य के बड़े किसान नेता की जान से खिलवाड़ हो रहा है।

सबसे पहले हरियाणा पुलिस के द्वारा साजिश खोलने का मामला क्या है?

राजस्थान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रह चुके रामेश्वर लाल डूडी की हत्या की साजिश रचने वाले अजीत बड़बर गिरोह के 2 कुख्यात शूटर सीआईए सिरसा द्वारा काबू किया गया था। उसके पास से 2 पिस्तौल और 8 कारतूस बरामद कर गिरफ्तार किया गया।

हरियाणा के सिरसा जिले की सीआईए सिरसा पुलिस ने पुलिस अधीक्षक डॉ. अरुण नेहरा के कुशल नेतृत्व में कार्य करते हुए सीआईए इंचार्ज इंस्पेक्टर रविन्दर कुमार की टीम ने SP साहब द्वारा अपराधियों के खिलाफ चलाये जा रहे विशेष अभियान के तहत राजस्थान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और MP रह चुके रामेश्वर लाल डूडी की हत्या की फिराक में घूम रहे अजीत बड़बर गिरोह के 2 कुख्यात शूटरों को काबू करने में बड़ी सफलता हासिल की थी।

पकड़े गए बदमाशों की पहचान श्याम सुन्दर उर्फ जाम्बा पुत्र राजाराम बिशनोई निवासी सावतसर जिला बीकानेर राजस्थान और देवेन्द्र उर्फ बेड़ा उर्फ देव पुत्र जैनपाल वासी अटेला कलां जिला चरखी दादरी के रूप में हुई है।

सीआईए टीम ने आरोपियों के कब्जे से 2 लोडेड पिस्तौल व 8 कारतूस भी बरामद कर लिए हैं।

पकड़े गए दोनों आरोपी हत्या व हत्या के प्रयास के मुकदमों में फतेहाबाद और झुंझनु से फरार चल रहे है। हरियाणा व राजस्थान पुलिस दोनों बदमाशों के काफी समय से पीछे लगी हुई थी।

सीआईए सिरसा इंचार्ज इंस्पेक्टर रविन्दर कुमार की एक पुलिस टीम Asi अवतार सिंह के नेतृत्व में गस्त के दौरान पोहड़का बस अड्डा के नजदीक मौजूद थी।

टीम को खुफिया सूचना मिली कि मीठी सुरेरा मोड़ पर पल्सर बाइक सवार दो लड़के हथियारों से लैस खड़े है, जो किसी राहगीर को लूटने की फिराक में है अगर फौरी रेड की जावे तो हथियारों सहित काबू आ सकते है।

सीआईए टीम ने सरकारी गाड़ी की बत्ती उतार दी और अपनी वर्दी साफे से छिपा ली। सीआईए की गाड़ी जैसे ही मीठी सुरेरा मोड़ पर पहुंची, तो बदमाशों ने उसे आम गाड़ी समझते हुए घेर लिया और लूटपाट की कोशिश करने लगे।

लेकिन जैसे ही बदमाशों को आभास हुआ कि पुलिस की गाड़ी घेर ली है तो दोनों मीठी सुरेरा की तरफ भागने लगे लेकिन सीआईए टीम ने बहादुरी का परिचय देते हुए दोनों आरोपियों को कुछ दूरी पर खेतों में हथियारों सहित काबू कर लिया।

आरोपीयों के कब्जे से एक पल्सर मोटरसाइकिल, एक लोडेड पिस्तौल 315 बोर, एक लोडेड पिस्टल 32 बोर, 8 कारतूस व एक बैटरी बरामद की थी।

पकड़े गए आरोपीयों की पूछताछ से बड़ा खुलासा हुआ कि आरोपियों ने कबूल किया है कि उन्होंने राजस्थान के नेता प्रतिपक्ष, पूर्व MLA और पूर्व MP बीकानेर रह चुके रामेश्वर लाल डूडी की हत्या करनी थी।

जिसके लिए मधुबनी बिहार से 8 असले खरीदने थे, किन्तु पैसों की कमी थी, इसलिए लूट के इरादे से मीठी सुरेरा मोड़ पर खड़े थे, लेकिन पुलिस द्वारा पकड़े गए।

आरोपियान से गहनता से पूछताछ की जा रही है। जिनसे और भी बारदातों का खुलासा हो सकता है।

आरोपियों को पेश अदालत करके पुलिस हिरासत रिमांड पर लिया जाएगा। पूछताछ पर आरोपियों ने निम्न वारदातों का खुलासा किया है जिसमें आरोपी फरार चल रहे हैं।

  1. 2 जून 2019 को आरोपी श्याम सुंदर ने अपने साथियों उमेश गांधी वासी बनवास, गुरभेज वासी बुडाभाना, खान वासी टोंक के साथ मिलकर संदीप सैनी उर्फ बचिया वासी बनवास की उसके घर मे घुसकर गोलियां मारकर हत्या कर दी थी। जिसमे आरोपी फरार चल रहा है।

  2. 7 जुलाई 2019 को आरोपी श्यामसुंदर ने अपने साथियों देवेन्द्र उर्फ देव व रजनीश के साथ मिलकर कौर सिंह वासी सिरडान की गाड़ी पर जान से मारने की नीयत से गोलियां मारी थी। जिसमें दोनों आरोपी फरार चल रहे हैं ।

आरोपी देवेंद्र के खिलाफ दर्ज मुकदमें-

  1. मु. न. 394/18 धारा 379, 411 IPC थाना बाढडा ।

  2. मु. न. 125/19 धारा 307, 392 ipc थाना भट्टू ।

आरोपी श्यामसुंदर के खिलाफ दर्ज मुकदमें-
1. मु.न. 193/17 धारा 457, 380 IPC थाना JNVC बीकानेर ।

  1. मु.न. 72/18 धारा 450, 343, 366, 376 IPC थाना नापासर ।

  2. मु.न. 258/18 धारा 457, 380 IPC थाना नोखा ।

  3. मु.न. 116/19 धारा 3/25 आर्म्स एक्ट थाना कोटगेट ।

रामेश्वर डूडी की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई, पर क्या बढ़ाई?

राजस्थान पुलिस ने आज एक प्रेस नोट जारी किया। इससे सीधे तौर पर साबित होता है कि संवैधानिक पद (पूर्व नेता प्रतिपक्ष) की सुरक्षा को लेकर राज्य सरकार और उसकी पुलिस कितनी गंभीर है।

पुलिस के द्वारा जारी प्रेस नोट में लिखा है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश पर पूर्व सांसद रामेश्वर डूडी की सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ाया गया है तथा जांच एसओजी को सौंपी गई है।

महानिदेशक पुलिस भूपेंद्र सिंह ने बताया कि रामेश्वर डूडी को मिली धमकी की जानकारी के बाद उनकी सुरक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ किया गया है।

मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार धमकी देने वालों के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही सुनिश्चित करने के लिए जांच एसओजी को सौंपी गई है।

गंभीरता देखिये, जिस मामले में हत्या की साजिश का बड़ा खुलासा करते हुए हरियाणा पुलिस कई संगीन अपराधों के सरगना को पकड़ा था, उसको राज्य पुलिस केवल धमकी बता रही है।

जबकि हरियाणा पुलिस पहले ही कह चुकी है कुख्यात अपराधी न केवल पूर्व नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी की हत्या करने की साजिश कर चुका था, बल्कि उसके लिए हथियारों का जखीरा भी एकत्रित कर चुका था।

अब इससे इतर बात करते हैं। गम्भीर बात यह भी है कि संवैधानिक पद पर रहे एक किसान नेता के लिए राज्य सरकार ने तब केवल एक गार्ड उपलब्ध करवाया था, जब खुद मुख्यमंत्री से मिले।

इससे पहले की बात की जाए, तो राज्य के बेहद चर्चित रहे धारा सिंह उर्फ दारा एनकाउंटर मामले में किसी अनहोनी की संभावना के चलते तब के विधायक राजेन्द्र सिंह राठौड़ को Y+ श्रेणी की सुरक्षा व्यवस्था दी गई थी।