शॉर्ट वीडियो ऐप लाईकी कोरोना के बारे में भ्रांतियों को तोड़कर लोगों को शिक्षित कर रहा है

जयपुर।
जानलेवा कोरोना वायरस या कोविड-19 से अपना बचाव करने के लिए पूरी दुनिया इस समय सोशल डिस्टैंसिंग (एक दूसरे से दूरी बनाना) कर रही है।

भारत ने भी इस महामारी के खिलाफ अपना अभियान छेड़ा है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिनों तक पूरे देश में लॉकडाऊन की घोषणा की है। इस घोषणा के बाद आम लोग अपने-अपने घरों में बंद हो गए हैं।

हममें से कई लोग तो घरों में बंद होने से परेशान हैं, तो अन्य लोग इस अवसर का उपयोग सकारात्मक तरीके से कर रहे हैं। ये लोग विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स एवं लाईकी जैसे शॉर्ट वीडियो ऐप्स का उपयोग कर इस महामारी के बारे में जागरुकता व जानकारी का प्रसार कर रहे हैं।

लाईकी अग्रणी शॉर्ट वीडियो प्लेटफॉर्म है। इसने कोरोना से संबंधित अनेक हैशटैग शुरू किए हैं। इन हैशटैग्स के साथ यूज़र्स बता रहे हैं कि कोरोना से बचने के लिए क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए। वो कोरोना महामारी के बारे में इंटरनेट पर फैली अनेक भ्रांतियों को तोड़ रहे हैं।

शॉर्ट वीडियो ऐप पर ट्रेंड हो रहा एक लोकप्रिय हैशटैग ‘फाईटकोरोना’ है। इसे 55 मिलियन से ज्यादा व्यू मिल चुके हैं। इस हैशटैग के साथ क्रिएटर्स ने कोविड-19 से बचने के लिए अनेक सावधानियों के बारे में बताया है। ज्यादातर क्रिएटर्स ने तीन बातों पर जोर दिया हैः

  1. हाथों को बार बार साबुन या सैनिटाईज़र से धोएं।
  2. चेहरे मास्क या फिर कलाई से ढंकें, लेकिन अपने हाथों को चेहरे पर न लगाएं।
  3. यदि खांसी जुकाम लंबे समय तक रहे, तो डॉक्टर को दिखाएं।
यह भी पढ़ें :  राजस्थान के विधायक बलजीत यादव ने अपना पांच साल का वेतन दे दिया, मिलिए दानवीर से

ऐप पर ट्रेंड हो रहा इसी तरह का दूसरा हैशटैग ‘कोरोना फैक्ट्स एंड रयूमर्स’ है। इसे इस महामारी के बारे में फैली भ्रांतियों को तोड़ने के लिए बनाया गया है।

इसके तहत लाईकी के अधिकारियों ने तीन मेडिकल प्रोफेशनल्स – डॉक्टर नेहा राजपाल, एमबीबीएस, एमजीएम मेडिकल कॉलेज, नवी मुंबई; डॉक्टर ओम पाटिल – कंसल्टैंट ऑर्थोपीडिक एवं स्पाईन सर्जन, मुंबई तथा डॉक्टर मृणमयी मुकुंद गनोजे – कंसल्टैंट डर्मेटोलॉजिस्ट एवं कॉस्मेटोलॉजी एक्सपर्ट को खुद से जोड़ा है।

इन डॉक्टर्स ने 24 मार्च, 25 मार्च और 26 मार्च को लाईव सत्र आयोजित किए, जिसमें उन्होंने लाईकीयर्स की शंकाओं का समाधान किया। इसके अलावा लाईकीयर्स द्वारा पोस्ट किए गए वीडियो में इस भ्रांति को तोड़ा गया है कि गौमूत्र इस बीमारी का इलाज करती है।

इनके अलावा, इस ऐप ने एक लाईव ट्रैकर भी प्रस्तुत किया है, जो कोरोना के संकट पर लेटेस्ट अपडेट प्रदान करता है। इस सेक्शन में संक्रमित लोगों की संख्या, नए मामलों की संख्या, कोरोना से होने वाली मौतें एवं इससे ठीक हुए मरीजों की जानकारी दी जाती है। इस महामारी की लेटेस्ट खबरों एवं रिर्पोट्स के लिए एक समर्पित सेक्शन भी है।