भाजपा प्रत्याशी राजेश्वर सिंह का सपा पर बड़ा हमला, अखिलेश यादव पर लगाया झूठे वादे का आरोप

70bbb8ee 7b09 4c1b 9ba3 8ee93fc9476e

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में जैसे-जैसे चुनावी लड़ाई तेजी पकड़ रही है, सभी पार्टियों ने एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप शुरु कर दिए हैं। लखनऊ के सरोजनी नगर से भाजपा उम्मीदवार और ईडी के ज्वाइंट डायरेक्टर रहे राजेश्वर सिंह ने ने सपा पर जमकर हमला बोला है। राजेश्वर सिंह ने समाजवादी पार्टी पर लैपटॉप वितरण में भारी घोटाले का आरोप लगाया है।

उन्होंने सोशल मीडिया मंच कू ऐप पर अखिलेश यादव के दो वीडियो शेयर किए हैं, जिसमें एक में अखिलेश यादव कह रहे हैं कि 14 लाख लैपटॉप बांटे, वहीं दूसरे वीडियो में कह रहे हैं कि 18 लाख लैपटॉप बांटेगए। इसके अलावा राजेश्वर सिंह ने एक वेबसाइट के हवाले से बताया कि 110 करोड़ के समाजवादी लैपटॉप गायब, नहीं मिल रहा डाटा।
बता दें कि पांच साल पहले एक वेबसाइट ने लिखा था कि समाजवादी पार्टी की लैपटॉप योजना में एक बड़ी हेरफेर का खुलासा हुआ है। योजना के तहत आए करीब 15 लाख लैपटॉप में से करीब 8 लाख 70 हजार लैपटॉप का कोई हिसाब नहीं मिल रहा है। इनकी कीमत करीब 1173 करोड़ रुपए बताई जा रही है।

उस समय लेखक शांतनु गुप्ता की किताब “उत्तर प्रदेश-विकास की प्रतीक्षा में” लिखने के लिए 2016 में एक आरटीआई फाइल की गई थी। शांतनु बताते हैं कि आरटीआई के मुताबिक 2012 से 2014 तक सपा सरकार ने 14 लाख 81 हजार 118 लैपटॉप खरीदकर प्रदेश के जिलों में भेजे। इनमें से बच्चों को सिर्फ 6 लाख 11 हजार 794 लैपटॉप बांटे गए। बाकी बचे 8 लाख 69 हजार 324 लैपटॉप कहां गए इसकी सरकारी रिकॉर्ड में कोई जानकारी नहीं मिली है। एक समाजवादी लैपटॉप की कीमत 13490 रुपये बताई गई है। इसके हिसाब से करीब 1173 करोड़ रुपये कीमत के लैपटॉप गायब हैं।

यह भी पढ़ें :  वसुंधरा झुककर प्रणाम कर रही हैं 'पटाने' के लिए, मनाने के लिए"...

सरोजनी नगर का चुनावी गणित अहम

सरोजनी नगर विधानसभा सीट का गणित काफी अहम है। यहां पर दलित वोटरों की संख्या सबसे अधिक है। करीब 1.75 लाख दलित वोटर यहां पर हैं। इसके बाद 1.5 लाख ओबीसी वोटरों की संख्या है। विधानसभा क्षेत्र में 50 हजार ब्राह्मण, 70 हजार क्षत्रिय और 30 हजार मुसलमान वोटर हैं। दलित वोटरों की संख्या अधिक रहने के बाद भी यहां पर ब्राह्मण, ठाकुर और वैश्य वोटरों की भूमिका निर्णायक होती है।