Jaipur

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक हनुमान बेनीवाल का चुनाव चिन्ह “बोतल” चुनाव आयोग ने छीन ली है। हनुमान बेनीवाल की पार्टी को अब “टायर” के चुनाव चिन्ह पर लोकसभा का चुनाव लड़ना होगा।

बताया जा रहा है कि चुनाव आयोग ने बोतल का चुनाव चिन्ह गुजरात की एक राजनीतिक पार्टी, जिसका नाम राष्ट्रीय पावर है, को दे दिया है।

गौरतलब है कि बोतल के चुनाव चिन्ह पर राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक हनुमान बेनीवाल ने राजस्थान की 57 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे, जिनमें से खुद बेनीवाल समेत 3 प्रत्याशियों ने चुनाव जीतकर विधानसभा का सफर शुरू किया है।

बताया जा रहा है कि 15 दिन पहले ही हनुमान बेनीवाल को चुनाव आयोग ने इसका नोटिस दे दिया था। आयोग ने कहा था, क्योंकि हनुमान बेनीवाल की पार्टी तीन राज्यों से चुनाव नहीं लड़ रही है।

इसलिए वह राष्ट्रीय स्तर की पार्टी नहीं है, और गुजरात की “राष्ट्रीय पावर” पार्टी ने देश के 3 या उससे अधिक स्टेट में चुनाव लड़ने का ऐलान किया है।

राष्ट्रीय पावर ने चुनाव आयोग से बोतल का चुनाव चिन्ह मांगा था, जो आयोग ने उसको अलॉट कर दिया है। चुनाव आयोग के इस फैसले के खिलाफ हनुमान बेनीवाल ने चुनौती दी है।

हालांकि, इसके साथ ही बेनीवाल ने यह भी कहा है कि आयोग का जो भी फैसला होगा, वह उनको स्वीकार होगा।

लेकिन बताया जा रहा है कि जब से राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी को चुनाव आयोग का नोटिस मिला है, तब से पार्टी के तमाम पदाधिकारियों में बेचैनी और मायूसी छाई हुई है।

आपको यह भी बता दें कि हनुमान बेनीवाल और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के अन्य पदाधिकारियों ने बड़ी मशक्कत करके राजस्थान में चुनाव चिन्ह बोतल को प्रसिद्ध किया था।

अब यदि ऐसी स्थिति में बेनीवाल की पार्टी से बोतल का चुनाव चिन्ह छीन लिया जाता है, तो यह पार्टी के लिए बड़ा झटका साबित होगा।

बहरहाल, बेनीवाल या उनकी पार्टी में से किसी ने इस मामले में बोलने को लेकर चुप्पी साध ली है। आयोग के नोटिस का जवाब दे दिया गया बताया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि 5 दिन पहले ही हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी ने भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन किया है। बेनीवाल खुद नागौर लोकसभा क्षेत्र से एनडीए के उम्मीदवार हैं।