dr sanjay saran sms hospital
dr sanjay saran sms hospital

जयपुर।

सवाई मानसिंह चिकित्सालय (sms hospital) में एण्डोक्राईनोलोजी (हार्माेन रोग) विभाग में सहायक आचार्य के पद पर डायबिटिज एवं थाईरोइड रोग विशेषज्ञ के तौर पर कार्यरत डॉ संजय सारण को एक और उपलब्धि हासिल हुई है।

डॉ. संजय सारण के बृहत चिकित्सकीय अनुभव एवं पूर्व में प्रकाशित शोध पत्रों वजह से इंग्लैण्ड की एक प्रतिष्ठीत प्रकाशक समूह (इंटेक ओपन) द्वारा प्रकाशित पुस्तक थायराईड डिसआर्डर में डॉ. सारण द्वारा नवजात शिशु में होने वाले थायराईड की बिमारियों के बारे में एक चैप्टर लिखा गया

है। ऐसी उपलब्धि हासिल करने वाले डॉ. संजय सारण राजस्थान के पहले चिकित्सक है। डॉ. सारण ने बताया कि नवजात शिशुओ में होने वाली थायराईड की बीमारी मंदबुद्धि (क्रेटिनिजम) का मुख्य कारण है।

इसकी वजह से बच्चों में चिडचिडापन एवं व्यवहार में बदलाव आ जाता है। शोघ में पाया गया है कि यह बीमारी 1500-2000 बच्चों में से एक से मिलती है।

जिसमें थायराइड ग्रंथी का विकास न हो पाना मुख्य कारण है। अगर गर्भावस्था के दौरान मां को थायराइड समस्या है तो बच्चे को भी थायराइड की समस्या हो सकती है।

अगर उपचार में देरी होती है, तो बच्चो में मंदबुद्धि के रोग से ग्रसित होते है, तथा बच्चो में शारीरिक विकास नही होता है।

समय पर इलाज कराने पर बीमारी पर काफी नियंत्रण किया जा सकता है। अब यह पुस्तक प्रकाशित हो चुकी है।

इससे पूर्व भी डॉ. सारण डायबिटिज, थाईरोइड एवं हार्मोन की विभिन्न बिमारियों पर समय-समय पर शोघ पत्र प्रकाशित कर चुके हैं।

चिकित्सकीय क्षेत्र में उत्कृष्ठ कार्य के लिये डॉ. सारण को चीन सरकार द्वारा भी सम्मानित किया जा चुका है।