Gajendra singh shekhawat devi singh bhati arjun ram meghwal
Gajendra singh shekhawat devi singh bhati arjun ram meghwal

Jaipur/Bikaner.

देश में लोकसभा चुनाव की रणभेरी बजने के साथ ही सियासी दलों में टिकट की दौड़ तेज़ हो गई है। दोनों ही प्रमुख दल अगले कुछ दिनों में टिकट तय होने हैं।

राजस्थान के कद्दावर राजपूत नेता देवी सिंह भाटी ने नाराज़ होकर कहा है कि वह भारतीय जनता पार्टी छोड़ देंगे। भाटी ने कहा है कि अगर बीकानेर संसदीय क्षेत्र से अर्जुनराम मेघवाल को टिकट दिया गया तो वह पार्टी छोड़ देंगे।

आज भारतीय जनता पार्टी मुख्यालय में संगठन महामंत्री चंद्रशेखर से मुलाकात करने के लिए पहुंचे भाटी ने भाजपा छोड़ने का इशारा कर दिया है।

इससे पहले उन्होंने नागौर में अर्जुनराम मेघवाल को टिकट देने पर पार्टी छोड़े जाने की बात कही थी। गौरतलब है कि देवी सिंह भाटी और अर्जुनराम मेघवाल के बीच बीकानेर में सियासी दबंगता को लेकर प्रतिस्पर्धा चली आ रही है।

दिसंबर में आयोजित विधानसभा चुनाव में देवी सिंह भाटी की बहु पूनम कंवर कोलायत से चुनाव हार गए थीं। वह बीजेपी के टिकट पर चुनावी मैदान में उतरी थीं।

उल्लेखनीय है कि पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को लेकर भी देवी सिंह भाटी कई बार विवादित बयान दे चुके हैं। भाटी हमेशा बीजेपी के पक्ष में, लेकिन वसुंधरा राजे की खिलाफत करते रहे हैं।

उनके द्वारा पार्टी से इस्तीफे की धमकी देने के संकेत से भाजपा में हलचल तेज हो गई है। देवी सिंह भाटी को भारतीय जनता पार्टी में गए राजपूत नेता के तौर पर जाना जाता है।

बीकानेर सांसद अर्जुन राम मेघवाल दो लोकसभा चुनाव बीकानेर संसदीय सीट से जीत चुके हैं, तीसरे चुनाव की तैयारी चल रही है। वह केंद्र में मंत्री भी हैं।

देवी सिंह भाटी खुद दो बार 7वीं और 13वीं विधानसभा के सदस्य रहे थे। भाटी राज्य सरकार में कैबिनेट मंत्री भी रह चुके हैं। अभी बीकानेर सीट आरक्षित होने के कारण वह दावेदारी नहीं जता पाते हैं। वह साल 2013 में कोलायत से विधानसभा चुनाव हार चुके हैं।

इस बारे में सवाल किए जाने पर बीजेपी नेता और पूर्व मंत्री अरुण चतुर्वेदी ने कहा है कि पार्टी में अपनी बात रखना का सबको हक़ है, उम्मीद है कि टिकट बंटवारे के बाद भाटी नाराज़ नहीं होंगे।