सुजाता@नई दिल्ली।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में देशद्रोह के नारे लगाने वाले तत्कालीन छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार उनके साथी उमर खालिद समेत अन्य लोगों के खिलाफ दिल्ली पुलिस चार्जशीट दाखिल करने के लिए तैयार बैठी है, लेकिन दिल्ली सरकार इसके लिए अनुमति नहीं दे रही है।

कन्हैया कुमार और उमर खालिद पर मुकदमे की अनुमति क्यों नहीं दे रही केजरीवाल सरकार? 1

करीब 20 दिन पहले दिल्ली पुलिस ने पटियाला हाउस कोर्ट में इन सभी आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करने का प्रयास किया, लेकिन कोर्ट ने दिल्ली सरकार की अनुमति नहीं होने के कारण उसको वापस लौटा दिया था।

कन्हैया कुमार और उमर खालिद पर मुकदमे की अनुमति क्यों नहीं दे रही केजरीवाल सरकार? 2

पटियाला हाउस कोर्ट नियमों की जानकारी नहीं होने की बात कहते हुए एक तरह से दिल्ली पुलिस को लताड़ पिलाते हुए कहा था कि जब तक राज्य की सरकार किसी नागरिक के खिलाफ मुकदमा चलाने की अनुमति नहीं देती है, तब तक कोई भी पुलिस चार्जशीट दाखिल नहीं कर सकती है।

आपको बता दें कि साल 2015 में तत्कालीन जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने विश्वविद्यालय में ही देश के खिलाफ नारेबाजी की थी। दिल्ली पुलिस ने एक वीडियो सामने आने के बाद कन्हैया कुमार समेत उनके साथियों को गिरफ्तार किया था। बाद में कोर्ट ने जमानत पर रिहा कर दिया था।

दिल्ली पुलिस सभी आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करने की तैयारी में है, लेकिन दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार इस चीज के लिए अनुमति नहीं दे रही है। ऐसे में दिल्ली पुलिस फिर से कोर्ट का दरवाजा खटखटाने की तैयारी कर रही है।

आपको बता दें कि कन्हैया कुमार उमर खालिद समेत सभी आरोपियों पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज है। जिस तरह से प्रसारित किया जा रहा है। दिल्ली पुलिस के मुताबिक इनके खिलाफ देशद्रोह का कोई मामला नहीं है।