kirodi lal meena om prakash hudala
kirodi lal meena om prakash hudala

जयपुर। लोकसभा चुनाव 2019 की तारीख नजदीक आने के बावजूद भाजपा द्वारा दौसा से अपना उम्मीदवार तय नहीं कर पाने के कारण अब भारी चुनौती बन गई है।

भाजपा के लोकसभा चुनाव प्रभारी प्रकाश जावड़ेकर ने कमान संभाली है। उन्होंने राज्यसभा सांसद किरोड़ीलाल मीणा और निर्दलीय विधायक ओम प्रकाश हुड़ला के साथ अलग-अलग मुलाकात कर टिकट निर्धारित करने का प्रयास किया है।

बताया जा रहा है कि आज शाम तक इसको लेकर कोई फैसला कर लिया जाएगा। इस बीच ओमप्रकाश हुड़ला ने कहा कि पार्टी का उम्मीदवार जिताना प्रमुख लक्ष्य है, भाजपा जिसको भी टिकट देगी उसके साथ लगकर जिताया जाएगा।

किरोड़ीलाल मीणा को लेकर पूछे गए सवाल पर हुड़ला ने कहा कि वो आदरणीय हैं और उनकी राय के बिना चुनाव नहीं लड़ जाएगा। बताया यह भी जा रहा है कि हुड़ला जहां जसकौर मीणा को टिकट दिलाना चाहते हैं, वहीं किरोड़ीलाल अपनी पत्नी गोलमा देवी या जगमोहन मीणा पर अड़े हुए हैं।

उल्लेखनीय है कि दौसा, करौली-धौलपुर समेत टोंक-सवाई माधोपुर में इन दोनों नेताओं के बीच सियासी जंग जग जाहिर है। इसके चलते भाजपा को विधानसभा में हुड़ला का टिकट काटना पड़ा था, वो अभी निर्दलीय विधायक हैं।

याद दिला दें के भाजपा ने 23 सीटों पर बीजेपी के चिन्ह पर और नागौर सीट से खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल को एनडीए का संयुक्त उम्मीदवार बनाया है। कांग्रेस अपने सभी 25 प्रत्याशी तय कर चुकी है।

बहरहाल, किरोड़ीलाल मीणा और ओमप्रकाश हुड़ला दौसा से टिकट को लेकर जद्दोजहद में उलझे हुए हैं और कांग्रेस की कविता मीणा प्रचार में जुटी हुईं हैं।

सियासी जानकारों का मानना है कि ज्यों—ज्यों समय निकल रहा है, त्यों—त्यों यह सीट भाजपा के लिए मुश्किल और कांग्रेस के लिए आसान होती नजर आ रही है।

यह भी बता दें कि राज्य ही नहीं, देश के कई इलाकों में नेताओं की आपसी रस्सकस्सी पार्टियों के लिए सिरदर्द बन जाती है। राजस्थान में ऐसे कई दिग्गज हैं, जो एक ही जाति, धर्म और क्षेत्र से होने पर भी वर्चस्व के लिए आपस में उलझे हुए हैं।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।