Jaipur

राजस्थान में कांग्रेस पार्टी के बीच जारी गतिरोध के दौरान विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के द्वारा लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को विधानसभा में बुलाया जाना चर्चा का विषय बन गया है।

सूत्रों की मानें तो सीपी जोशी के द्वारा लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को यूं ही नहीं बुलाया गया है, बल्कि इसके पीछे भविष्य की गहरी राजनीति छुपी हुई है।

राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो सीपी जोशी के द्वारा पिछले दिनों पत्रकारों के पास जारी करने में कटौती करने और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की कैबिनेट के सदस्यों शांति धारीवाल और डॉक्टर रघु शर्मा के साथ मनमुटाव की बात ऐसे ही नहीं की गई थी, बल्कि इसके पीछे भी गहरे राज छिपे हुए हैं।

कहा जा रहा है कि जिस तरह से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का इस्तीफा हुआ है, उसके बाद माधव राज सिंधिया के बेटे ज्योतिरादित्य सिंधिया और मिलिंद देवड़ा के द्वारा इस्तीफा देने के कारण राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट के ऊपर भी दबाव है।

लेकिन बताया जा रहा है कि उनको राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के रहने और अगले साल मार्च से पहले हटाए जाने की कोई संभावना नहीं है।

इसके चलते राजनीतिक उठापटक जारी रहेगी और कभी भी राजस्थान में कांग्रेस पार्टी दो या तीन धड़ों में बंट सकती है।

सियासी गलियारों में तो यहां तक चर्चा है कि विधानसभा अध्यक्ष डॉक्टर सीपी जोशी लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के माध्यम से भारतीय जनता पार्टी में अपनी इस जुगत मिटाने में लगे हुए हैं।

जिस तरह बीते दिनों मंत्रियों के साथ उनके मनमुटाव की बातें सामने आई और उसके बाद अशोक गहलोत के द्वारा इस पर कोई टिप्पणी नहीं की गई, उससे साफ है कि इस मामले में सीपी जोशी और अशोक गहलोत के बीच काफी दूरियां बढ़ गई है।

पहले से ही दो गुटों में बंटी कांग्रेस अब 3 फाड़ होती नजर आ रही है, जिसका फायदा उठाने के लिए सीपी जोशी ने ओम बिरला के माध्यम से बीजेपी में संपर्क करना शुरू कर दिया है।

राजनीति बेहद अनिश्चितताओं से घिरी रहती है हाल ही में कर्नाटक में जिस तरह से कांग्रेस के विधायकों और जेडीएस के विधायकों के द्वारा पार्टी छोड़ने की बातें सामने आई है, उसके बाद राजस्थान और मध्य प्रदेश कांग्रेस में भी मनमुटाव और विवाद होने की संभावनाओं को बल मिल रहा है।

ऐसे समय में विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी कभी भी पाला बदलकर बीजेपी के साथ आ सकते हैं। सर्वविदित है कि डॉक्टर सीपी जोशी का मुख्यमंत्री बनने के लिए किस हद तक लालच जुड़ा हुआ है।