nationaldunia

-आरसीए में भूचाल: राजस्थान सरकार ने भंग किया अध्यक्ष जोशी पूरी सहित कार्यकारिणी को

राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन (RCA) नया भूलाच आ गया है। आरसीए के अध्यक्ष सीपी जोशी सहित पूरी कार्यकारिणी को भंग कर दिया गया है। राजस्थान सरकार ने आरसीए की कार्यकारिणी के अधिकारी छीनकर, उसकी जगह एडहॉक कमेटी बनाकर आरसीए की सभी गतिविधियां उसके हवाले कर दी हैं।

कमेटी अगले ​तीन माह तक राजस्थान क्रिकेट की सभी गति​विधियां देखेंगी। नियमानुसार इसी दौरान आरसीए के चुनाव करवाने आवश्यक है। गंगानगर जिला क्रिकेट संघ के सचिव इस कमेटी में विनोद सहारण को कमेटी का संयोजक बनाया गया है।

मजेदार बात यह है कि एक ओर जहां आरसीए की कार्यकारिणी को भंग करने की गतिविधि चल रही थी, वहीं जयपुर के ही डब्ल्यूटीपी मॉल में आरसीए के अध्यक्ष सीपी जोशी व विपक्षी ललित मोदी गुट के बीच समझौते पर हस्ताक्षर की कवायद की जा रही थी।

ललित मोदी गुट के जिन 16 जिला क्रिकेट संघों ने सीपी जोशी गुट के खिलाफ शिकायतें भेजी थीं, उन्हीं के साथ जोशी गुट समझौते पर हस्ताक्षर करने जा रहा था।

समझौते के लिए एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर करने की प्रक्रिया चल रही थी, लेकिन इसी बीच आरसीए की कार्यकारिणी को भंग किए जाने के आदेश की सूचना आने पर दोनों पक्ष उठकर चले गए। सहकारिता रजिस्ट्रार नीरज के पवन द्वारा एडहॉक कमेटी को काम सौंप दिया है।

इस कमेटी में सहारण के अलावा भरतपुर के शत्रुघ्न तिवाड़ी, राजसमंद के गिरिराज सनाढ्य, करौली के राजेश सारस्वत, बीकानेर के रतन सिंह, बांसवाड़ा के नृपजीत सिंह, सवाई माधोपुर के दीपक राज, पाली के धर्मवीर सिंह एडहॉक कमेटी में शामिल किया गया है।

आरसीए को भंग कर सीपी जोशी को हटाने के मामले को लेकर विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। चुनाव से ऐन पहले राजस्थान सरकार का यह निर्णय कांग्रेस के लिए बड़ी मुसीबत ला सकता है।

आरसीए के कोषाध्यक्ष पिंकेश पोरवाल ने कहा है कि आरसीए में क्रिकेट के अलावा सबकुछ चल रहा था। आपको बता दें कि पिंकेश पोरवाल को जोशी गुट ने पहले ही हटा दिया था।

मामले की तह तक जाने पर पता चलता है कि राजस्थान के 16 जिला क्रिकेट संघों ने सीपी जोशी और कार्यकारिणी पर कई शिकायतें की थीं। लंबे समय से जोशी गुट और आईपीएल के पूर्व कमिशनर भगौड़े ललित मोदी गुट के बीच तनातनी चल रही थी। अब इस ताजा एपिसोड के पीछे भी ललित मोदी की भूमिका बताई जा रही है।

आरसीए कार्यकारिणी भंग किए जाने के प्रकरण को लेकर आज ही जयपुर हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई, लेकिन जस्टिस मनीष भंडारी ने उस रिट को स्वीकार करने से इनकार कर दिया। हालांकि, याचिकाकर्ता को अलग से अपील दायर करने का हक रहेगा।

आपको बता दें कि आरसीए में बीते लंबे समय से वर्चस्व को लेकर विवाद चल रहा है। पूर्व अध्यक्ष ललित मोदी अपने बेटे रुचिर मोदी को अध्यक्ष बनाने के लिए इस विवाद को बढ़ावा देते रहे हैं। पिछले साल ही रुचिर मोदी सीपी जोशी से हार गए थे।

सीपी जोशी पर 16 जिला क्रिकेट संघों ने अनियमितताओं के गंभीर आरोप लगाए हैं। बताया जा रहा है कि इसी वर्ष आयोजित किए गए आईपीएल मैचों के दौरान गड़बड़ियों की बातें सामने आई थीं।

आरोप है कि सीपी जोशी गुट ने इन मैचों के द्वारा भारी घोटाला किया है। हालांकि, घोटाले के आरोपों की बात खुलकर सामने नहीं आई हैं।

Email-national[email protected]

Whatsapp n.9828999333