लखनऊ।

रिक्शा चालक जावेद ने लव जिहाद का नया रिकॉर्ड कायम कर दिया। हालांकि, उसकी इस कारतूस की शिकार केवल हिन्दू लड़कियां ही नहीं हुई, बल्कि सैंकड़ों मुस्लिम महिलाओं को भी फंसाने में कामयाब हो गया।

पुलिस ने जब जावेद को दबोचा, तब तक वह 3000 लड़कियों को दोस्ती का शिकार बना चुका था।

उत्तर प्रदेश पुलिस के अनुसार बरेली के रहने वाले जावेद ने आईपीएस नुरुल हसन के नाम से फ़र्ज़ी फ़ेसबुक आईडी बनाई और लड़कियों से दोस्ती गाँठनी शुरू कर दी।

उसने बताया कि शुरू में तो उसकी आईडी पर कम ही फ़्रेण्डशिप की रिक्वेस्ट आती थी, किन्तु बाद में भरमार हो गई।

उसने राजस्थान से भी नर्स और महिला वकील को अपनी शिकार बना डाला। जबकि आईपीएस नुरुल हसन वास्तव में बरेली का असली आईपीएस है, और वर्तमान में महाराष्ट्र में तैनात हैं।

जावेद ने बताया कि वह 52 साल का है, और केवल मोहब्बत के लिए ही बना है। बरेली पुलिस उससे पूछताछ कर रही है।