nationaldunia

जयपुर।

कांग्रेस पार्टी को बीते 20 वर्ष में राजस्थान में एक बार भी पूर्ण बहुमत नहीं मिला। पार्टी को अंतिम बार 20 साल पहले 1998 में दिग्गज नेता परसराम मदेरणा की अगुवाई में 156 सीटों पर जीत हासिल हुई थी।

कांग्रेस पार्टी के द्वारा तब परसराम मदेरणा को बटोर किसान मुख्यमंत्री के तौर पर पेश किया गया और जमकर वोट बटोरे गए। लेकिन वास्तविकता यह रही कि तब मुख्यमंत्री परसराम मदेरणा की जगह अशोक गहलोत को बनाया गया।

1980 में पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ने वाले अशोक गहलोत 1998 से पहले तक हमेशा सांसद रहे। 1998 में कांग्रेस पार्टी को 156 सीटों पर जीत हासिल हुई और उसके बाद अशोक गहलोत मुख्यमंत्री बनाकर फरवरी 1999 में विधानसभा का चुनाव लड़ा गया गया।

तब से अशोक गहलोत लगातार चौथी बार जोधपुर की सरदारपुरा सीट से विधायक हैं। इस दौरान दो बार मुख्यमंत्री रह चुके अशोक गहलोत कल तीसरी बार राजस्थान की मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण करेंगे।

1998 में कांग्रेस को आखिरी बार पूर्ण बहुमत की सरकार राजस्थान में मिली उसके बाद 2003 में 156 सीटों से कांग्रेस सीधी 53 सीटों पर आ गई। 2008 में एक बार फिर कांग्रेस पार्टी केवल 96 सीट हासिल हुई।

2013 में इतिहास की सबसे बुरी हार का सामना करते हुए कांग्रेस पार्टी केवल 21 सीटों पर सिमट कर रह गई। अभी 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेस को बहुमत से 2 सीट पीछे रहना पड़ा, पार्टी को 99 सीटों पर जीत हासिल हुई है।

इस तरह से देखा जाए तो कांग्रेस पार्टी को 1998 से लेकर अब तक कभी भी पूर्ण बहुमत नहीं मिला है। लोगों का मानना है कि कांग्रेस पार्टी ने 1998 में परसराम मदेरणा को मुख्यमंत्री नहीं बनाकर किसानों के साथ धोखा किया था।

जिस चेहरे को आगे करके चुनाव लड़ा और जिस चेहरे के कारण 156 सीटें जीतकर पूर्ण बहुमत हासिल किया, उसी चेहरे को मुख्यमंत्री नहीं बनाया गया। जिसके चलते पूरी किसान कौम आज भी कांग्रेस पार्टी पर भरोसा नहीं करती है।

इन्हीं 20 वर्षों में भारतीय जनता पार्टी ने 2003 में 120 सीटों के साथ पहली बार पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनाई थी। 2008 में पार्टी 78 सीटों पर जीत जीत हासिल कर सत्ता से कुछ दूर रही।

इसके बाद 2013 में पार्टी के पक्ष में ऐतिहासिक रूप से 163 सीटों पर प्रचंड बहुमत आया और हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में पार्टी 73 सीटों पर जीत कर सम्मानजनक स्थिति में रही।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।